Monday, September 26, 2022
Home उत्तराखंड मुनस्यारी में फिर से शुरू हुई सेब की खेती, आइटीबीपी तक ने सेब का बागान बनाया

मुनस्यारी में फिर से शुरू हुई सेब की खेती, आइटीबीपी तक ने सेब का बागान बनाया

उत्तराखंड: प्रदेश सीमांत जिले पिथौरागढ़ के मुनस्यारी और धारचूला में एक समय सबसे स्वादिष्ट और बड़े आकार वाले सेबों की खेती होती थी। लेकिन जहां खेती होती थी उन गांवों तक सड़क न होने के कारण तब सेब गांव में ही सड़ जाते थे। जिले में तकरीबन खत्म हो चुकी सेब की खेती एक बार फिर जीवित होने लगी है। सेब उत्पादन के लिए मौसम भी सहायक बनता जा रहा है। इस बार अच्छी बर्फबारी के कारण इसका असर पैदावार पर भी देखने के लिए मिलेगा। सेब उत्पादक क्षेत्रों में फिर से सेब उत्पादन के कीर्तिमान बन सकते हैं। एक बार फिर धारचूला और मुनस्यारी के सेब उत्पादक क्षेत्र अपनी पहचान बनाने की तरफ उन्मुख हैं।

आज से चार दशक पूर्व तक मुनस्यारी और धारचूला के चौदास क्षेत्र में सेब का व्यापक उत्पादन होता था। मुनस्यारी के बौना गांव के सेब ने तो सेब के मानक तक बदल दिए थे। वर्ष 1980 में मुंबई में हुई सेब प्रदर्शनी में जब बौना गांव का सेब पहुंंचा तो सभी चौंक गए थे और बौना के सेब ने सेब के आकार के मानक बदल दिए थे। तब सेब उत्पादक क्षेत्रों तक सड़क की कोई व्यवस्था नहीं थी। सेब गांवों में ही सड़ जाता था। ग्रामीणों ने सेब उत्पादन बंद कर दिया।

बीते दशकों में एक बार फिर प्रोत्साहन पाकर युवा सेब उत्पादन के लिए आगे आए। उच्च हिमालयी क्षेत्रों से लेकर उच्च मध्य हिमालय तक सेब के पौध रोपे गए। वर्तमान में तो धारचूला के उच्च हिमालयी व्यास घाटी में सेब का अच्छा खासा उत्पादन हो रहा है। ग्यारह हजार फीट की ऊंचाई पर स्थित गुंजी में आइटीबीपी तक ने सेब का बागान बनाया है। व्यास घाटी के ग्रामीण भी सेब का उत्पादन कर रहे हैं।

18 सौ घंटे चिलिंग प्वाइंट जरूरी

मुनस्यारी में भी सेब उत्पादन होने लगा है। बौना, तौमिक, गोल्फा, मुनस्यारी, भटक्यूड़ा सहित कई गांवों में सेब उत्पादन होने लगा है। इस बीच सेब उत्पादन के लिए जलवायु भी उपयुक्त होने लगी है। सेब उत्पादन के लिए 18 सौ घंटे चिलिंग प्वाइंट की आवश्यकता होती है। यह मानक बर्फबारी से ही पूरे होते हैं। इन क्षेत्रों में सेब के लिए चिलिंग प्वाइंट मिल रहा है।

सरकार उपलब्ध कराए बाजार

भटक्यूड़ा गांव निवासी सेब उत्पादक युवा लक्ष्मण सिंह बताते हैं कि बीते वर्ष सेब का अच्छा उत्पादन हुआ। उन्होंने गांव में ही सौ रुपए किलो सेब बेचे । उनका कहना है कि आने वाले दो तीन वर्षों में क्षेत्र में सेब का व्यापक उत्पादन होने के आसार हैं। सरकार यदि बाजार उपलब्ध कराए तो बौना के सेब के पुराने दिन वापस लौटेंगे । सेब इस क्षेत्र के गांवो की आर्थिकी को बदल कर रख देगा।

RELATED ARTICLES

अंकिता हत्याकांड: जांच पूरी होने तक लक्ष्मण झूला में कैंप करेगी एसआईटी

देहरादून: जनपद पौड़ी गढ़वाल के राजस्व पुलिस क्षेत्र पट्टी उदयपुर पल्ला नम्बर 2, तहसील यमकेश्वर क्षेत्रान्तर्गत रिजॉर्ट में अंकिता भण्डारी की हत्या से सम्बन्धित...

स्वास्थ्य संबंधी सहायता चाहिए तो डायल करें हेल्पलाइन नम्बर 104, विभिन्न मामलों को लेकर प्रतिदिन 5000 कॉल की जा रही दर्ज

देहरादून: सूबे में स्वास्थ्य सेवाओं को आम जनमानस तक पहुंचाने के उद्देश्य से स्वास्थ्य विभाग द्वारा 104 एकीकृत हेल्पलाइन सेवा संचालित की जा रही...

पेशी के दौरान फरार कैदी को चंडीगढ़ से किया गिरफ्तार

अल्मोड़ा: दिनांक 15/09/2022 को कमल सिंह बिष्ट पुत्र भुवन सिंह निवासी ग्राम पदमपुरी पल्ली, पोखरी थाना दन्या तहसील भनोली, जनपद अल्मोड़ा पेशी के दौरान...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय

अंकिता हत्याकांड: जांच पूरी होने तक लक्ष्मण झूला में कैंप करेगी एसआईटी

देहरादून: जनपद पौड़ी गढ़वाल के राजस्व पुलिस क्षेत्र पट्टी उदयपुर पल्ला नम्बर 2, तहसील यमकेश्वर क्षेत्रान्तर्गत रिजॉर्ट में अंकिता भण्डारी की हत्या से सम्बन्धित...

स्वास्थ्य संबंधी सहायता चाहिए तो डायल करें हेल्पलाइन नम्बर 104, विभिन्न मामलों को लेकर प्रतिदिन 5000 कॉल की जा रही दर्ज

देहरादून: सूबे में स्वास्थ्य सेवाओं को आम जनमानस तक पहुंचाने के उद्देश्य से स्वास्थ्य विभाग द्वारा 104 एकीकृत हेल्पलाइन सेवा संचालित की जा रही...

पेशी के दौरान फरार कैदी को चंडीगढ़ से किया गिरफ्तार

अल्मोड़ा: दिनांक 15/09/2022 को कमल सिंह बिष्ट पुत्र भुवन सिंह निवासी ग्राम पदमपुरी पल्ली, पोखरी थाना दन्या तहसील भनोली, जनपद अल्मोड़ा पेशी के दौरान...

सरकारी ड्यूटी छोड़ प्राइवेट अल्ट्रासाउंड सेंटर चलाते मिले रेडियोलॉजिस्ट, प्रशासन की टीम ने सील किया डॉक्टर का प्राइवेट डायग्नोस्टिक सेंटर

देहरादून: जिलाधिकारी श्रीमती सोनिका द्वारा अल्ट्रासाउण्ड केन्द्रों पर विशेष निगरानी बनाये रखने तथा किसी भी शिकायत पर तत्काल संज्ञान लेते हुए कार्यवाही किये जाने...

सहसपुर में नदी पर बने टापू पर फंसे कुछ लोग, SDRF ने बचाई जान

देहरादून: सहसपुर में नदी पर बने टापू पर कुछ लोग फंस गए, जिसकी सूचना आपदा कंट्रोल रूम देहरादून द्वारा SDRF को दी गई, सूचना...

Ankita murder case: : हर एंगल से होगी जांच, फास्ट ट्रैक कोर्ट में होगी सुनवाई : सीएम धामी

देहरादून: मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि अंकिता हत्याकांड में सभी आरोपियों पर सख्त से सख्त कारवाई होगी। उन्होंने प्रदेश की जनता से...

प्रदेश में कानून व्यवस्था सुनिश्चित करने के साथ ही प्रदेश में माहौल खराब करने वाले तत्वों पर रखी जाये कड़ी नजर: CM धामी

देहरादून: मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने प्रदेश में कानून एवं व्यवस्था से सम्बन्धित घटनाओं को गम्भीरता से लेने के निर्देश जिलाधिकारियों को दिये हैं।...

Rajasthan Congress: राजस्थान कांग्रेस पर संकट, 90+ टीम गहलोत के विधायकों ने दी इस्तीफे की धमकी, इस बड़ी कहानी के शीर्ष 10 बिंदु

जयपुर: राजस्थान के अगले मुख्यमंत्री का सवाल कांग्रेस के लिए संकट में बदल गया है। अशोक गहलोत खेमे के 90 से अधिक विधायक विरोध...

लक्ष्मण झूला क्षेत्र में एक व्यक्ति नदी में बहा, SDRF ने किया शव बरामद

ऋषिकेश: लक्ष्मण झूला क्षेत्र में नदी में एक व्यक्ति डूब गया, जिसके शव बरामद को लेकर थाना लक्ष्मण झूला द्वारा SDRF टीम को सूचित कराया...

अंकिता भंडारी के अंतिम संस्कार को लेकर चल रहा संसार मुख्यमंत्री के आश्वासन के बाद, पंचतत्व में विलीन हुई अंकिता

देहरादून: अंकिता भंडारी के अंतिम संस्कार को लेकर चल रहा संसार मुख्यमंत्री के आश्वासन के बाद दूर हो गया है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी...