Thursday, October 6, 2022
Home राष्ट्रीय अन्य राज्य क्या आपको जानकारी है कार्यकाल खत्म होने के बाद कहां रहते हैं भारत के राष्ट्रपति?

क्या आपको जानकारी है कार्यकाल खत्म होने के बाद कहां रहते हैं भारत के राष्ट्रपति?

नई दिल्ली: राष्ट्रपति भवन को भारत की शक्ति, शान और सुंदरता के प्रतीक के रूप में भी देखा जाता है। वर्तमान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का 24 जुलाई को कार्यकाल खत्म हो जाएगा। फिलहाल कोविंद दुनिया के सबसे बड़े राष्ट्रपति भवन में रहते हैं। भारत का राष्ट्रपति भवन 330 एकड़ में फैला है हालांकि इमारत पांच एकड़ में बनी है। चार मंजिला इस इमारत में कुल 340 कमरे हैं। राष्ट्रपति भवन का उद्यान 190 एकड़ में फैला है। भारत के प्रथम नागरिक के इस निवास स्थान में करीब 200 लोग काम करते हैं। इस भवन में राष्ट्रपति को विशेष तरह की सुविधाएं प्राप्त होती हैं। राष्ट्रपति के निवास, स्टाफ, मेहमानों और भोजन आदि पर सालाना करीब 225 लाख रुपये खर्च होते हैं। लेकिन आज का मुद्दा ये है कि कार्यकाल खत्म होने के बाद पूर्व हो चुके राष्ट्रपति कहां रहते हैं और उन्हें कौन-कौन सी सुविधाएं मिलती हैं…?

पूर्व राष्ट्रपति के लिए क्या है नियम?

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, नियमानुसार पूर्व राष्ट्रपति को देश की राजधानी दिल्ली में कैबिनेट मंत्री को आवंटित होने वाला बंगला ही देना होता है। रामनाथ कोविंद भारत के 14वें राष्ट्रपति हैं। दो राष्ट्रपति, ज़ाकिर हुसैन और फ़ख़रुद्दीन अली अहमद की पद पर रहते मृत्यु हो गयी थी। इनके अलावा जिन राष्ट्रपतियों की सेवा समाप्त होती गई, उनमें से ज्यादातर दिल्ली न रहकर अपने-अपने गृह क्षेत्र चले गए।

जैसे देश के प्रथम राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद कार्यकाल खत्म होने के बाद पटना शिफ्ट हो गए थे। दूसरे राष्ट्रपति एस. राधाकृष्णन, चौथे राष्ट्रपति वीवी गिरी और नौवें राष्ट्रपति आर वेंकटरमन सेवा मुक्त होने पर चेन्नई चले गए थे। एन संजीव रेड्डी राष्ट्रपति भवन छोड़ने के बाद बेंगलुरु चले गए थे। प्रतिभा पाटिल पद छोड़ने के बाद पुणे शिफ्ट हो गयी थीं।

वहीं कुछ पूर्व राष्ट्रपति दिल्ली में भी रहें। ज्ञानी जैल सिंह कार्यकाल खत्म होने के बाद तीन मूर्ति स्थित सर्कुलर रोड के पास एक बंगले में रहने लगे थे। शंकर दयाल शर्मा सफदरजंग रोड स्थित एक बंगले में रहें। केआर नारायणन पद छोड़ने के बाद लुटियन दिल्ली में रहे। एपीजे अब्दुल कलाम 10 राजाजी मार्ग स्थित एक बंगले में रहे। बाद में इसी बंगले में पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी भी रहे।

पूर्व राष्ट्रपति को मिलने वाली सुविधाएं

राष्ट्रपति की मासिक सैलरी 5 लाख रुपये होती है, इस रकम पर किसी भी प्रकार के कर (टैक्स) का भुगतान नहीं करना होता। रिटायर होने पर 1.5 लाख रुपये प्रति माह पेंशन मिलता है। स्टाफ पर खर्च करने के लिए 60 हजार रुपये महीना अलग से मिलता है। आजीवन मुफ्त इलाज और आवास की सुविधा भी मिलती है। इसके अलावा पूर्व राष्ट्रपति को दो फ्री लैंडलाइन और एक मोबाइल भी दिया जाता है।

RELATED ARTICLES

सीएम धामी ने दुर्घटनाओं से प्रभावितों को 2 लाख की आर्थिक सहायता देने का किया ऐलान

देहरादून: मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बुधवार को सिमडी, पौड़ी में हुई बस दुर्घटना स्थल का जायजा लिया। इस अवसर पर उनके साथ पूर्व...

केदारनाथ धाम में श्रद्धालुओं की बढ़ती संख्या को देखते हुए जल्द मिलेंगी तिरुपति बालाजी जैसी सुविधाएं

देहरादून: प्रसिद्ध केदारनाथ धाम में श्रद्धालुओं की बढ़ती संख्या को देखते हुए तिरुपति बालाजी ट्रस्ट सुविधाओं में मददगार बनेगा। सात अक्तूबर को आंध्र प्रदेश...

उत्तराखंड में हिमस्खलन से बड़ी आफत, 28 पर्वतारोही फंसे, 9 की मौत

उत्तरकाशी: उत्तरकाशी जिले में हिमस्खलन की वजह से पर्वतारोहण की ट्रेनिंग ले रहे प्रशिक्षार्थी बर्फ के पहाड़ पर फंस गए हैं। द्रौपदी का डांडा-2...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय

सीएम धामी ने दुर्घटनाओं से प्रभावितों को 2 लाख की आर्थिक सहायता देने का किया ऐलान

देहरादून: मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बुधवार को सिमडी, पौड़ी में हुई बस दुर्घटना स्थल का जायजा लिया। इस अवसर पर उनके साथ पूर्व...

केदारनाथ धाम में श्रद्धालुओं की बढ़ती संख्या को देखते हुए जल्द मिलेंगी तिरुपति बालाजी जैसी सुविधाएं

देहरादून: प्रसिद्ध केदारनाथ धाम में श्रद्धालुओं की बढ़ती संख्या को देखते हुए तिरुपति बालाजी ट्रस्ट सुविधाओं में मददगार बनेगा। सात अक्तूबर को आंध्र प्रदेश...

परेड ग्राउंड में भव्य तरीके से मनाया जाएगा दशहरा

देहरादून: अबकी बार देहरादून के परेड ग्राउंड पर पांच अक्तूबर को दशहरे का आयोजन भव्य बनाने के लिए दशहरा कमेटी बन्नू बिरादरी ने पूरी...

संगीत प्रेमियों को महानवमी पर “केपीजी प्रोडक्शन” की अनुपम भेंट

देहरादून: नवरात्रि महान नवमी के अवसर पर केपीजी प्रोडक्शन की ओर से संगीत प्रेमियों को गढ़वाली भाषा में भक्ति से परिपूर्ण भेंट पेश की...

उत्तराखंड में हिमस्खलन से बड़ी आफत, 28 पर्वतारोही फंसे, 9 की मौत

उत्तरकाशी: उत्तरकाशी जिले में हिमस्खलन की वजह से पर्वतारोहण की ट्रेनिंग ले रहे प्रशिक्षार्थी बर्फ के पहाड़ पर फंस गए हैं। द्रौपदी का डांडा-2...

Sharadiya Navratri 2022: मुख्‍यमंत्री पुष्‍कर सिंह (CM Dhami) ने शारदीय नवरात्र की नवमी के पावन अवसर विधि विधान से किया कन्‍या पूजन

देहरादून: नवमी के दिन मंगलवार को उत्‍तराखंड भर में मां दुर्गा के नौ स्‍वरूपों की पूजा अर्चना का दौर जारी रहा। इस क्रम में...

Dussehra 2022: शारदीय नवरात्रि के बाद दशमी तिथि को मनाया जाता है दशहरा, जानिए इसका महत्व, शुभ मुहूर्त,पूजन विधि

Dussehra 2022: हिंदू धर्म में दशहरे के त्योहार का खास महत्व होता है। शारदीय नवरात्रि के बाद दशमी तिथि को दशहरा मनाया जाता है।...

केदार सिंह प्रकरण: थाना लक्ष्मण झूला प्रभारी को हटाने के निर्देश

देहरादून: अपर पुलिस महानिदेशक अपराध एवं कानून व्यवस्था डॉ0 वी0 मुरुगेशन मुख्य प्रवक्ता पुलिस मुख्यालय द्वारा बताया गया है कि केदार सिंह के प्रकरण...

सोमेश्वर पुलिस की बड़ी कार्यवाही कैंटर में 300 टिन अवैध लीसे की तस्करी कर तस्कर को किया गिरफ्तार

अल्मोड़ा: जनपद के सभी थाना/चौकी प्रभारियों को वन सम्पदा, खनिज पदार्थो आदि की अवैध तस्करी करने वालों के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही करने हेतु दिए...

अलर्ट – मौसम के अनुरूप यात्रा पर जाने के निर्देश, कुछ जिलों में येलो एवं ऑरेंज अलर्ट

देहरादून: मौसम विभाग ने Uttarakhand में कई जनपदों में 05-07 अक्टूबर को येलो, ऑरेंज व रेड अलर्ट जारी किया है। खास तौर पर उत्तरकाशी...