Monday, February 6, 2023

दशहरा

दशहरा
दशहरा (विजयादशमी या आयुध-पूजा) हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहार है। अश्विन (क्वार) मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को इसका आयोजन होता है। भगवान राम ने इसी दिन रावण का वध किया था तथा देवी दुर्गा ने नौ रात्रि एवं दस दिन के युद्ध के उपरान्त महिषासुर पर विजय प्राप्त की थी। इसे असत्य पर सत्य की विजय के रूप में मनाया जाता है। इसीलिये इस दशमी को ‘विजयादशमी’ के नाम से जाना जाता है (दशहरा = दशहोरा = दसवीं तिथि)। दशहरा वर्ष की तीन अत्यन्त शुभ तिथियों में से एक है, अन्य दो हैं चैत्र शुक्ल की एवं कार्तिक शुक्ल की प्रतिपदा।
इस दिन लोग शस्त्र-पूजा करते हैं और नया कार्य प्रारम्भ करते हैं (जैसे अक्षर लेखन का आरम्भ, नया उद्योग आरम्भ, बीज बोना आदि)। ऐसा विश्वास है कि इस दिन जो कार्य आरम्भ किया जाता है उसमें विजय मिलती है। प्राचीन काल में राजा लोग इस दिन विजय की प्रार्थना कर रण-यात्रा के लिए प्रस्थान करते थे। इस दिन जगह-जगह मेले लगते हैं। रामलीला का आयोजन होता है। रावण का विशाल पुतला बनाकर उसे जलाया जाता है। दशहरा अथवा विजयदशमी भगवान राम की विजय के रूप में मनाया जाए अथवा दुर्गा पूजा के रूप में, दोनों ही रूपों में यह शक्ति-पूजा का पर्व है, शस्त्र पूजन की तिथि है। हर्ष और उल्लास तथा विजय का पर्व है। भारतीय संस्कृति वीरता की पूजक है, शौर्य की उपासक है। व्यक्ति और समाज के रक्त में वीरता प्रकट हो इसलिए दशहरे का उत्सव रखा गया है। दशहरा का पर्व दस प्रकार के पापों- काम, क्रोध, लोभ, मोह मद, मत्सर, अहंकार, आलस्य, हिंसा और चोरी के परित्याग की सद्प्रेरणा प्रदान करता है।

महत्त्व
दशहरे का सांस्कृतिक पहलू भी है। भारत कृषि प्रधान देश है। जब किसान अपने खेत में सुनहरी फसल उगाकर अनाज रूपी संपत्ति घर लाता है तो उसके उल्लास और उमंग का पारावार नहीं रहता।[2] इस प्रसन्नता के अवसर पर वह भगवान की कृपा को मानता है और उसे प्रकट करने के लिए वह उसका पूजन करता है। समस्त भारतवर्ष में यह पर्व विभिन्न प्रदेशों में विभिन्न प्रकार से मनाया जाता है। महाराष्ट्र में इस अवसर पर ‘सिलंगण’ के नाम से सामाजिक महोत्सव के रूप में भी इसको मनाया जाता है। सायंकाल के समय पर सभी ग्रामवासी सुंदर-सुंदर नव वस्त्रों से सुसज्जित होकर गाँव की सीमा पार कर शमी वृक्ष के पत्तों के रूप में ‘स्वर्ण’ लूटकर अपने ग्राम में वापस आते हैं। फिर उस स्वर्ण का परस्पर आदान-प्रदान किया जाता है

विजय पर्व
दशहरे का उत्सव शक्ति और शक्ति का समन्वय बताने वाला उत्सव है। नवरात्रि के नौ दिन जगदम्बा की उपासना करके शक्तिशाली बना हुआ मनुष्य विजय प्राप्ति के लिए तत्पर रहता है। इस दृष्टि से दशहरे अर्थात विजय के लिए प्रस्थान का उत्सव का उत्सव आवश्यक भी है।[8]
भारतीय संस्कृति सदा से ही वीरता व शौर्य की समर्थक रही है।[ग] प्रत्येक व्यक्ति और समाज के रुधिर में वीरता का प्रादुर्भाव हो कारण से ही दशहरे का उत्सव मनाया जाता है। यदि कभी युद्ध अनिवार्य ही हो तब शत्रु के आक्रमण की प्रतीक्षा ना कर उस पर हमला कर उसका पराभव करना ही कुशल राजनीति है। भगवान राम के समय से यह दिन विजय प्रस्थान का प्रतीक निश्चित है। भगवान राम ने रावण से युद्ध हेतु इसी दिन प्रस्थान किया था। मराठा रत्न छत्रपती शिवाजी महाराज ने भी औरंगजेब के विरुद्ध इसी दिन प्रस्थान करके हिन्दू धर्म का रक्षण किया था। भारतीय इतिहास में अनेक उदाहरण हैं जब हिन्दू राजा इस दिन विजय-प्रस्थान करते थे।

इस पर्व को भगवती के ‘विजया’ नाम पर भी ‘विजयादशमी’ कहते हैं। इस दिन भगवान रामचंद्र चौदह वर्ष का वनवास भोगकर तथा रावण का वध कर अयोध्या पहुँचे थे। इसलिए भी इस पर्व को ‘विजयादशमी’ कहा जाता है। ऐसा माना जाता है कि आश्विन शुक्ल दशमी को तारा उदय होने के समय ‘विजय’ नामक मुहूर्त होता है। यह काल सर्वकार्य सिद्धिदायक होता है। इसलिए भी इसे विजयादशमी कहते हैं।
ऐसा माना गया है कि शत्रु पर विजय पाने के लिए इसी समय प्रस्थान करना चाहिए। इस दिन श्रवण नक्षत्र का योग और भी अधिक शुभ माना गया है। युद्ध करने का प्रसंग न होने पर भी इस काल में राजाओं (महत्त्वपूर्ण पदों पर पदासीन लोग) को सीमा का उल्लंघन करना चाहिए। दुर्योधन ने पांडवों को जुए में पराजित करके बारह वर्ष के वनवास के साथ तेरहवें वर्ष में अज्ञातवास की शर्त दी थी। तेरहवें वर्ष यदि उनका पता लग जाता तो उन्हें पुनः बारह वर्ष का वनवास भोगना पड़ता। इसी अज्ञातवास में अर्जुन ने अपना धनुष एक शमी वृक्ष पर रखा था तथा स्वयं वृहन्नला वेश में राजा विराट के यहँ नौकरी कर ली थी। जब गोरक्षा के लिए विराट के पुत्र उत्तर ने अर्जुन को अपने साथ लिया, तब अर्जुन ने शमी वृक्ष पर से अपने हथियार उठाकर शत्रुओं पर विजय प्राप्त की थी। विजयादशमी के दिन भगवान रामचंद्रजी के लंका पर चढ़ाई करने के लिए प्रस्थान करते समय शमी वृक्ष ने भगवान की विजय का उद्घोष किया था। विजयकाल में शमी पूजन इसीलिए होता है।

RELATED ARTICLES

अंकिता को न्याय मिलने में देरी पर नाराज युवाओं का प्रदर्शन, सीएम के बयान की जलाई प्रतियां

श्रीनगर गढ़वाल: अंकिता भंडारी प्रकरण में न्याय में हो रही देरी के विरोध में युवाओं ने यहां गोला पार्क में मुख्यमंत्री के बयान की...

एई-जेई पेपर लीक प्रकरण में भाजपा नेता समेत तीनों आरोपियों को भेजा जेल

हरिद्वार: एई-जेई परीक्षा प्रश्नपत्र लीक प्रकरण में आरोपी लोकसेवा आयोग के अनुभाग अधिकारी संजीव कुमार, भाजपा नेता नितिन चौहान और सुनील सैनी को एसआईटी...

कैंसर मरीज नहीं उठा पाई अपना बैग तो एयर होस्टेस ने उतारा विमान से नीचे, पढ़िए पूरी खबर

नई दिल्ली: दिल्ली से न्यूयॉर्क जाने वाली एक कैंसर पेशंट को दिल्ली एयरपोर्ट पर ही उतार दिया गया। जानकारी के मुताबिक महिला अमेरिकन एयरलाइन्स-239...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय

अंकिता को न्याय मिलने में देरी पर नाराज युवाओं का प्रदर्शन, सीएम के बयान की जलाई प्रतियां

श्रीनगर गढ़वाल: अंकिता भंडारी प्रकरण में न्याय में हो रही देरी के विरोध में युवाओं ने यहां गोला पार्क में मुख्यमंत्री के बयान की...

एई-जेई पेपर लीक प्रकरण में भाजपा नेता समेत तीनों आरोपियों को भेजा जेल

हरिद्वार: एई-जेई परीक्षा प्रश्नपत्र लीक प्रकरण में आरोपी लोकसेवा आयोग के अनुभाग अधिकारी संजीव कुमार, भाजपा नेता नितिन चौहान और सुनील सैनी को एसआईटी...

कैंसर मरीज नहीं उठा पाई अपना बैग तो एयर होस्टेस ने उतारा विमान से नीचे, पढ़िए पूरी खबर

नई दिल्ली: दिल्ली से न्यूयॉर्क जाने वाली एक कैंसर पेशंट को दिल्ली एयरपोर्ट पर ही उतार दिया गया। जानकारी के मुताबिक महिला अमेरिकन एयरलाइन्स-239...

हिमाचल प्रदेश में मौसम ने बदली करवट, ऊंचाई वाले क्षेत्रों में हुआ हिमपात, शीतलहर की चपेट में आया पूरा प्रदेश

हिमाचल: प्रदेश में मौसम ने करवट बदली है। प्रदेश की ऊंची चोटियों सहित लाहौल-स्पीति, कुल्लू, चंबा, किन्नौर, शिमला जिले के ऊपरी भागों में हिमपात...

जोशीमठ में हुआ हादसा, माउंट व्यू और मलारी होटल को तोड़ने के कार्य में लगा मजदूर गिरा, हालत नाजुक

जोशीमठ: माउंट व्यू और मलारी इन होटल को तोड़ने में लगा एक मजदूर गिर गया। एसडीआरएफ और एनडीआरएफ की टीम ने मजदूर को अस्पताल...

ग्रीष्मकालीन राजधानी गैरसैंण में मार्च के दूसरे सप्ताह में होगा विधानसभा का बजट सत्र, सरकार की तैयारियां तेज

देहरादून: विधानसभा का बजट सत्र मार्च के दूसरे सप्ताह में ग्रीष्मकालीन राजधानी गैरसैंण में होगा। साथ ही, सरकार ने तैयारियां शुरू कर दी हैं।...

दुनिया को एकता के सूत्र में पिरोने का कार्य किया ‘संत रविदास’ ने – रेखा आर्या

देहरादून: आज प्रदेश की कैबिनेट मंत्री रेखा आर्या संत रविदास की जयंती के अवसर पर सेलाकुई स्थित कार्यक्रम में पहुंची। जहां कार्यक्रम के दौरान...

पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ का दुबई के अस्पताल में हुआ निधन

नई दिल्ली:- पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ का निधन हो गया है। पाकिस्तान मीडिया के हवाले से यह खबर सामने आई है। मुशर्रफ...

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के नाम हुआ भारत के सबसे हैंडसम मुख्यमंत्री का खिताब

देहरादून: उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी अपनी सरल और सौम्य छवि के लिए काफी लोकप्रिय हैं। लोगों के बीच जाकर उनकी समस्याओं को...

ससुराल आयी दुल्हन नकदी और जेवर लेकर हुई फरार, ससुर की तहरीर पर मुकदमा दर्ज

कुशीनगर: जनपद के पटहेरवा थाना क्षेत्र के एक गांव में सुबह ससुराल पहुंची दुल्हन रात में ही नकदी और गहने लेकर लापता हो गई।...