Monday, September 26, 2022
Home उत्तराखंड ईगास बग्वाल

ईगास बग्वाल

बग्वाल उत्सव

बग्वाल उत्सव भारत के उत्तराखण्ड (गढ़वाल) राज्य में मनाया जाता है। ये त्यौहार गढ़वाल में बड़े धूम-धाम से मनाया जाता है। इसको “यम चतुर्दशी” भी कहते हैं। गढ़वाल में दीपावली को “बग्वाल” कहते हैं।इसके ११वें दिन बाद हरिबोधिनी एकादशी आती है जिसको हम इगास कहते हैं। अमावस्या के दिन लक्ष्मी जागृत होती है और इसलिए बग्वाल को लक्ष्मी जी की पूजा की जाती है। हरिबोधनी एकादशी के दिन भगवान विष्णु शयनावस्था से जागृत होते हैं और उस दिन विष्णु पूजा करने का प्रावधान है। उत्तराखंड में असल में कार्तिक त्रयोदशी से ही दीप पर्व शुरू हो जाता है और यह कार्तिक एकादशी यानि हरिबोधनी एकादशी तक चलता है। इसे ही इगास . बग्वाल कहा जाता है। जिस दिन बग्वाल या इगास होती थी उस दिन सुबह से ही रौनक बन जाती थी। इन दोनों दिन सुबह लेकर दोपहर तक पालतू पशुओं की पूजा की जाती है।

पशुओं की पूजा – बग्वाल में लोग घरों में स्वाली (भूड़े ), पकोड़ी, भर स्वाली(भूड़े ) आदि पकवान बनाते हैं। पालतू जानवरों खासकर गाय -बछड़ों तथा बैलों की पूजा की जाती है। उसके बाद उनके लिए तैयार किया गया भात, झंगोरा, बाड़ी (मंडवे के आटे से बनाया जाता है) और जौ के लड्डू तैयार कर सबको परात या थाली पर सजाया जाता है। फिर उनको बग्वाली के फूलों (चौलाई के फूलों) से सजाया जाता है। जानवरों के पैर धोकर धूप दिया जलाकर उनकी आरती की जाती है और टीका लगाने के बाद सींगों पर तेल लगाया जाता है। फिर परात में सजाया हुआ अन्न उनको खिलाया जाता है। यह प्रक्रिया सुबह करीब आठ से १२ बजे तक चलती है।

भैला खेलने का चलन – बग्वाल के दिन गांव के लोग किसी सार्वजनिक स्थान पर एकत्रित होकर ढोल दमाऊ के साथ नाचते और भैला (लकड़ी के गिट्ठे को रस्सी से बांधकर आग लगाने के बाद घुमाया जाता है) खेलते थे, जिसमें लोग तरह-तरह के करतब दिखाते थे। आतिशबाजी भी इसी दिन करते थे। अब भैला का रिवाज बहुत कम गांवों में रह गया है।

मान्यता – लोगों का मानना है कि ,इस दिन गौ पूजा से यमराज प्रसन्न होते हैं। मनुष्य की अल्पायु में मृत्यु नहीं होती है। स्वर्ग की प्राप्ति होती है। कहते हैं इस दिन भगवान राम के वनवास के बाद अयोध्या पहुंचने पर लोगों ने दिये जलाकर उनका स्वागत किया और उसे दीपावली के त्योहार के रूप में मनाया, लेकिन कहा जाता है कि गढ़वाल क्षेत्र में भगवान राम के पहुंचने की खबर दीपवाली के ग्यारह दिन बाद मिली और इसीलिए ग्रामीणों ने अपनी खुशी जाहिर करते हुए ग्यारह दिन बाद दीपावली का त्योहार मनाया। वहीं दंत कथाओं के अनुसार चंबा का एक व्यक्ति भैला बनाने के लिए लकड़ी लेने जगंल गया था और वो उस दिन वापसा नहीं आया. काफी खोजबीन के बाद भी उस व्यक्ति का कहीं पता नहीं लगा तो ग्रामीणों ने दीपावली नहीं मनाई, लेकिन ग्यारह दिन बाद जब वो व्यक्ति वापस लौटा तो ग्रामीणों ने दीपावली मनाई और भैला खेला और तब से इगास बग्वाल के दिन भैला खेलने की परंपरा शुरू हुई।

परंपरा के ख़त्म होनेे का डर – अपनी अलग संस्कृति और परंपराओं से गढ़वाल की एक अलग पहचान हैं, लेकिन मॉर्डनाइजेशन के इस युग में धीरे-धीरे लुप्त हो रही संस्कृति और परंपराओं को बचाने की जिम्मेदारी हमारी नई पीढ़ी की है, जो कि धीरे धीरे आधुनिकता के इस दौर में इसे भूलते जा रही हैं। ऐसे में अपनी संस्कृति और परंपराओं को संजोय रखने के लिए हमें कोई अहम कदम उठाने की जरूरत है ताकि गढ़वाल की अपनी अलग पहचान कायम रह सके।

RELATED ARTICLES

अंकिता हत्याकांड: जांच पूरी होने तक लक्ष्मण झूला में कैंप करेगी एसआईटी

देहरादून: जनपद पौड़ी गढ़वाल के राजस्व पुलिस क्षेत्र पट्टी उदयपुर पल्ला नम्बर 2, तहसील यमकेश्वर क्षेत्रान्तर्गत रिजॉर्ट में अंकिता भण्डारी की हत्या से सम्बन्धित...

स्वास्थ्य संबंधी सहायता चाहिए तो डायल करें हेल्पलाइन नम्बर 104, विभिन्न मामलों को लेकर प्रतिदिन 5000 कॉल की जा रही दर्ज

देहरादून: सूबे में स्वास्थ्य सेवाओं को आम जनमानस तक पहुंचाने के उद्देश्य से स्वास्थ्य विभाग द्वारा 104 एकीकृत हेल्पलाइन सेवा संचालित की जा रही...

पेशी के दौरान फरार कैदी को चंडीगढ़ से किया गिरफ्तार

अल्मोड़ा: दिनांक 15/09/2022 को कमल सिंह बिष्ट पुत्र भुवन सिंह निवासी ग्राम पदमपुरी पल्ली, पोखरी थाना दन्या तहसील भनोली, जनपद अल्मोड़ा पेशी के दौरान...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय

अंकिता हत्याकांड: जांच पूरी होने तक लक्ष्मण झूला में कैंप करेगी एसआईटी

देहरादून: जनपद पौड़ी गढ़वाल के राजस्व पुलिस क्षेत्र पट्टी उदयपुर पल्ला नम्बर 2, तहसील यमकेश्वर क्षेत्रान्तर्गत रिजॉर्ट में अंकिता भण्डारी की हत्या से सम्बन्धित...

स्वास्थ्य संबंधी सहायता चाहिए तो डायल करें हेल्पलाइन नम्बर 104, विभिन्न मामलों को लेकर प्रतिदिन 5000 कॉल की जा रही दर्ज

देहरादून: सूबे में स्वास्थ्य सेवाओं को आम जनमानस तक पहुंचाने के उद्देश्य से स्वास्थ्य विभाग द्वारा 104 एकीकृत हेल्पलाइन सेवा संचालित की जा रही...

पेशी के दौरान फरार कैदी को चंडीगढ़ से किया गिरफ्तार

अल्मोड़ा: दिनांक 15/09/2022 को कमल सिंह बिष्ट पुत्र भुवन सिंह निवासी ग्राम पदमपुरी पल्ली, पोखरी थाना दन्या तहसील भनोली, जनपद अल्मोड़ा पेशी के दौरान...

सरकारी ड्यूटी छोड़ प्राइवेट अल्ट्रासाउंड सेंटर चलाते मिले रेडियोलॉजिस्ट, प्रशासन की टीम ने सील किया डॉक्टर का प्राइवेट डायग्नोस्टिक सेंटर

देहरादून: जिलाधिकारी श्रीमती सोनिका द्वारा अल्ट्रासाउण्ड केन्द्रों पर विशेष निगरानी बनाये रखने तथा किसी भी शिकायत पर तत्काल संज्ञान लेते हुए कार्यवाही किये जाने...

सहसपुर में नदी पर बने टापू पर फंसे कुछ लोग, SDRF ने बचाई जान

देहरादून: सहसपुर में नदी पर बने टापू पर कुछ लोग फंस गए, जिसकी सूचना आपदा कंट्रोल रूम देहरादून द्वारा SDRF को दी गई, सूचना...

Ankita murder case: : हर एंगल से होगी जांच, फास्ट ट्रैक कोर्ट में होगी सुनवाई : सीएम धामी

देहरादून: मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि अंकिता हत्याकांड में सभी आरोपियों पर सख्त से सख्त कारवाई होगी। उन्होंने प्रदेश की जनता से...

प्रदेश में कानून व्यवस्था सुनिश्चित करने के साथ ही प्रदेश में माहौल खराब करने वाले तत्वों पर रखी जाये कड़ी नजर: CM धामी

देहरादून: मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने प्रदेश में कानून एवं व्यवस्था से सम्बन्धित घटनाओं को गम्भीरता से लेने के निर्देश जिलाधिकारियों को दिये हैं।...

Rajasthan Congress: राजस्थान कांग्रेस पर संकट, 90+ टीम गहलोत के विधायकों ने दी इस्तीफे की धमकी, इस बड़ी कहानी के शीर्ष 10 बिंदु

जयपुर: राजस्थान के अगले मुख्यमंत्री का सवाल कांग्रेस के लिए संकट में बदल गया है। अशोक गहलोत खेमे के 90 से अधिक विधायक विरोध...

लक्ष्मण झूला क्षेत्र में एक व्यक्ति नदी में बहा, SDRF ने किया शव बरामद

ऋषिकेश: लक्ष्मण झूला क्षेत्र में नदी में एक व्यक्ति डूब गया, जिसके शव बरामद को लेकर थाना लक्ष्मण झूला द्वारा SDRF टीम को सूचित कराया...

अंकिता भंडारी के अंतिम संस्कार को लेकर चल रहा संसार मुख्यमंत्री के आश्वासन के बाद, पंचतत्व में विलीन हुई अंकिता

देहरादून: अंकिता भंडारी के अंतिम संस्कार को लेकर चल रहा संसार मुख्यमंत्री के आश्वासन के बाद दूर हो गया है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी...