Monday, October 3, 2022
Home ब्लॉग क्या "ब्लैक स्वान इवैंट" दस्तक देने वाला है भारत में ??

क्या “ब्लैक स्वान इवैंट” दस्तक देने वाला है भारत में ??

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के एक अध्ययन ने एक प्रमुख वैश्विक जोखिम परिदृश्य या “ब्लैक स्वान (Black Swan)” घटना के मामले में भारत से 100 बिलियन डॉलर (7,80,000 करोड़ ) की पूंजी के बहिर्वाह की संभावना के बारे में बात की है। आरबीआई (RBI) की हाल के एक रिपोर्ट की बात करें जहाँ उन्होने इंगित करते हुए आगाह किया है। भारत के बाजार में ही नहीं दुनिया में ब्लैक स्वान इवैंट आने वाली है। आरबीआई (RBI) ने सूचित करते हुए कहा है संभव है बाज़ार से 100 बिलियन डॉलर (7,80,000 करोड़ ) तक निकाल लिया जाए।

28 सालों में पहली बार फेडरल रिजर्व बैंक ऑफ अमेरिका ने ब्याज दर में 0.7% की वृद्धि कर दी है जिसकी वजह से वहाँ के लोकल बैंकों ने भी ब्याज दर में वृद्धि की है।

दुनिया में “ब्लैक स्वान इवैंट” आने वाला है। आरबीआई ने कहा है कि मार्केट से 100 बिलियन डॉलर निकाल लिया जाए। क्या है इसका मतलब??

हमारे देश के अंदर जितना भी शेयर मार्केट या फिर जितने भी प्रकार का इंवेस्टमेंट है जैसे की फ़ॉरेन पोर्टफोलियो, फ़ॉरेन इन्स्टीट्यूस्नल इंवेस्टमेंट। विदेशी कंपनी द्वारा किया गया पैसों का निवेश 100 बिलियन डॉलर (7,80,000 करोड़ ) तक मार्केट से निकाला जा सकता है। 100 बिलियन डॉलर जो की भारत की जीडीपी (GDP) का लगभग 3.5% के आस पास है। यदि ऐसा हुआ तो भारत की जीडीपी (GDP) इतनी गिर जाएगी और प्रक्षेपण है की शॉर्ट टर्म इंवेस्टमेंट (short term investment) 200 बिलियन डॉलर निकाल लिए गए तो भारत की जीडीपी (GDP) 7% से ज्यादा सिकुड़ जाएगी।

नस्सिम निकोलस तालेब ( Nassim Nicholas Taleb) द्वारा “ब्लैक स्वान (Black Swan)” नामक एक पुस्तक  लिखी गयी थी। जो कि दूसरे विश्व के बाद अब तक कि 10 बेस्ट सेल्लर पुस्तक हैं उनमे से यह एक है। इस पुस्तक में यह नहीं बताया गया है कि “ब्लैक स्वान” होता क्या है? बल्कि यह बताया गया है कि उससे बचा कैसे जाना चाहिए।

आप कहेंगे क्या आर्थिक मंदी को “ब्लैक स्वान” कहा जा सकता है? जी हाँ आप “ब्लैक स्वान” को आर्थिक मंदी भी कह सकते है, जिसकी आपने कल्पना भी ना की हो। कोरोना काल, युद्ध (war) की वजह से आर्थिक मंदी को नस्सिम निकोलस तालेब “ब्लैक स्वान” नहीं कहा है क्योंकि यह प्रत्याशित है, आर्थिक मंदी होना स्वाभाविक है। कोरोना काल, युद्ध जैसी परिस्थिति के समय हम कल्पना कर सकते हैं इकॉनमी में गिरावट तो आएगी। आर्थिक स्थिति का कमजोर होना तो निश्चित ही है। जिसकी हम कल्पना कर सकते हैं। “ब्लैक स्वान” एक अप्रत्याशित घटना है जिसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती।

दुनिया में 2008 में आर्थिक मंदी आ गयी थी वजह क्या थी? अमेरिका का एक बैंक जिसका नाम है लेहमेन एंड ब्रदर्स  ( Lehman Brothers) का दिवालिया ( bankrupt) हो गया था, फ़ेल हो गया था। जिस समय लेहमेन एंड ब्रदर्स फ़ेल हुआ उस समय अमेरिका एक दम पीक में था। किसी कों भी अंदाज़ा नहीं था की अमेरिका के बैंक का दिवालिया हो सकता है। परिणाम यह हुआ कि दुनिया में आर्थिक मंदी आ गयी सिर्फ एक बैंक का दिवालिया होने से। दिवालिया होने कि वजह यह थी कि जितना लोन दिया गया था वो वापिस ही नहीं आया, तो न्बंक ने अपने हाथ खड़े कर दिये कि हमारे पास अब पेसा ही नहीं है देने को। ऐसी घटना जो अप्रत्याशित थी  या जिसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती थी।

क्या होता है “ब्लैक स्वान”??

“ब्लैक स्वान (Black Swan)” का हिन्दी में मतलब होता है काला हंस। जब भी हमने हंस के बारे में सोचा या कहीं पिक्चर में देखा होगा तो सिर्फ सफ़ेद हंस ही देखा होगा। 16वीं – 17वीं शताब्दी तक यूरोपियन्स यह मानते थे कि काला हंस होता ही नहीं है वही नहीं पूरी दुनिया ऐसा मानती थी। लेकिन डच जो कि हौलण्ड के निवाशी हुआ करते थे वो एक बार ऑस्ट्रेलिया कि यात्रा पर गए 17वीं शताब्दी के आस पास तो उन्हें एक काले रंग का हंस दिखा। यह ऐसी घटना थी जिसकी उन्होनें कल्पना भी नहीं की थी।

ब्लैक स्वान एक दुर्लभ, अप्रत्याशित घटना है जो आश्चर्य के रूप में आती है। समाज और दुनिया पर एक महत्वपूर्ण प्रभाव डालती हैं। कहा जाता है कि इन घटनाओं में तीन विशेषताएँ हैं-

  • अंत्यन्त दुर्लभ है।
  • नियमित अपेक्षाओं के दायरे से बाहर हैं।
  • हिट होने के बाद उनका गंभीर प्रभाव पड़ता है।
RELATED ARTICLES

तीसरा चुनाव आयुक्त है ही नहीं!

चुनाव आयोग के सामने बहुत बड़ा मामला लंबित है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद उसे शिव सेना के बारे में फैसला करना है।...

Sarvapitri Amavasya: सर्वपितृ अमावस्या कब है? क्या है इस दिन का महत्व व कैसे करें सर्वपितृ अमावस्या का श्राद्ध, जानिए

पितृ पक्ष 10 सितंबर से शुरु हो चुके है, जो कि 25 सितंबर तक चलेंगे, यानि पितृ पक्ष का अंतिम दिन 25 सितंबर को...

Navratri: हम उपवास के दौरान प्याज और लहसुन से परहेज क्यों करते हैं?||Why we avoid onions and garlic during fast?||कारण ( reason)

Navratri: शारदीय नवरात्र आगामी 26 सितंबर से शुरु होने वाले है, हिंदु धर्म में शारदीय नवरात्र का विशेष महत्व होता है। इन दिनों माता...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय

बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और केंद्रीय गृह मंत्री अनुराग ठाकुर पहुंचे ऊना, आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर की बैठक

हिमाचल प्रदेश: भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा और केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर रविवार को ऊना पहुंचे। नड्डा ने लालसिंगी में भाजपा कार्यालय...

राज्यपाल ने टी.बी. एसोसिएशन ऑफ उत्तराखण्ड के टी.बी. के प्रति जनजागरूकता अभियान ‘‘टी.बी. सील’’ का किया अनावरण

देहरादून:- राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि) ने राजभवन में टी.बी. एसोसिएशन ऑफ उत्तराखण्ड के टी.बी. के प्रति जनजागरूकता अभियान ‘‘टी.बी. सील’’ का...

राज्य स्तरीय समान नागरिक संहिता विशेषज्ञ समिति के सदस्यों ने गोपेश्वर मुख्यालय और जनपद रुद्रप्रयाग के अगस्त्यमुनि में लोगों से मिलकर सुने उनके सुझाव

चमोली: जनपद के मुख्यालय गोपेश्वर में जनसामान्य के साथ बैठक का आयोजन महाविद्यालय परिसर में किया गया। इस बैठक में महिलाओं व युवाओं ने...

वरुण धवन और कृति सैनन की भेडिय़ा का टीजर जारी

वरुण धवन और कृति सैनन हॉरर फिल्म भेडिय़ा में जल्द नजर आएंगे। फिल्म 25 नवंबर को बड़े पर्दे पर आएगी। इसका निर्देशन अमर कौशिक...

अवैध स्मैक सहित पकड़ा गया ड्रग सप्लायर मिक्की वारसी

नैनीताल: जनपद नैनीताल पुलिस द्वारा वर्तमान में त्यौहारी सीजन के दौरान बढते अपराधो की रोकथाम व अवैध स्मैकतस्करी के विरूद्ध कोतवाली हल्द्वानी पुलिस व...

तीसरा चुनाव आयुक्त है ही नहीं!

चुनाव आयोग के सामने बहुत बड़ा मामला लंबित है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद उसे शिव सेना के बारे में फैसला करना है।...

समान नागरिक संहिता विषेशज्ञ समिति के सदस्यों द्वारा नागरिकों का पक्ष सुनने के लिए क्षेत्र में निर्धारित किया गया भ्रमण का कार्यक्रम

चमोली: राज्य स्तरीय समान नागरिक संहिता विषेशज्ञ समिति के सदस्यों द्वारा नागरिकों का पक्ष सुनने के लिए क्षेत्र में भ्रमण का कार्यक्रम निर्धारित किया...

PWD चीफ एयाज अहमद ने लगाई अधिकारियों की क्लास, तय समय में पूरा हो उत्तराखंड की सड़कों को गड्ढामुक्त करने का अभियान

देहरादून: उत्तराखंड में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के निर्देश पर शासन लगातार सड़कों को गड्ढा मुक्त करने के लिए दिशा निर्देश जारी कर रहा...

उत्तराखंड में बेसहारा, घायल गायों व गोवंशों के लिए देवदूत हैं शादाब अली

देहरादून: सूचना विभाग में कार्यरत सुरेश भट्ट जी द्वारा फोन पर सूचना मिलते ही भारतीय गौरक्षा वाहिनी के अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व...

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आयोजित की गयी प्रधानमंत्री पन्द्रह सूत्रीय कार्यक्रम क्रियान्वयन के लिए राज्य स्तरीय समिति की बैठक

देहरादून: मुख्य सचिव डॉ. एस.एस. संधु की अध्यक्षता में सचिवालय में प्रधानमंत्री जनविकास कार्यक्रम योजना के प्रस्तावों पर अनुमोदन हेतु प्रधानमंत्री पन्द्रह सूत्रीय कार्यक्रम...