Monday, February 6, 2023
Home ब्लॉग विकास के नाम पर प्रकृति के साथ खिलवाड़

विकास के नाम पर प्रकृति के साथ खिलवाड़

आजकल बस प्रकृति से प्रेम है तो बस सोशल मीडिया पर फोटो डालने तक सीमित है। पर्यावरण दिवस पर बड़े से बड़ा और छोटे से छोटा हर कोई पौंधा लगाते हुए आपको जरूर दिख जाएगा सोशल मीडिया पर, परन्तु कोई उस पौंधे को दुबारा देखने तक नहीं जाते यह है हमारी हकीकत। हम लोगो अब समझना होगा कि “प्रकृति है तो हम है”। पेड़ों की अंधाधुंध कटाई होने से बारिश का अभाव होता है। पेड़ों से केवल लाभ ही होता है जो वातावरण में फैली दूषित वायु को शुद्ध करता है। पेड़ अपने आसपास के वातावरण दूषित वायु की स्वच्छता के साथ-साथ भूमि को भी ठंडा रखता है।

आधुनिक भारत के आधुनिक प्लानर सड़क हो, हाईवे, पुल या कुछ भी बनाने के लिए सबसे पहले पुराने से पुराने पेड़ो की बलि लेने को तत्पर रहते है। कहने को तो पर्यावरण दिवस मनाया जाता है लेकिन अफसोस के साथ कहना पड़ रहा है कि हम लोग पर्यावरण के लिए कर तो पाएँ हैं बस दिखावे के लिए एक दिन का पर्यावरण दिवस। कैसी विडम्बना है कि हम लोग विकास तो करना चाहते है परन्तु पर्यावरण के बारे में बिना सोचे समझे। हजारों पुराने पेड़ों को काटने में तनिक भी नहीं सोचा जाता है ना ही विचार विमर्श किया जाता है। सोच इतनी ही विकसित हो पाई है कि उन पेड़ो की जगह नए पेड़ लगा दिए जाएंगे। हम लोग यह भली भांति जानते है कि जितनी कार्बन डाइऑक्साइड लेने की क्षमता पुराने एक पेड़ में होती है उस मुकाबले नए पेड़ की नहीं होती है। यह सब कुछ जानते हुए भी अनजान बनने की कोशिश कर रहे हैं या फिर जान बूझकर पेड़ों की अंधा धुन कटाई कर रहे हैं।

अगर समुंद्र के ऊपर पूल बनाकर सड़क बनाई जा सकती है तो क्या फिर जंगल को बिना ज्यादा हानि पहुंचाए सड़क बनाने का विकल्प नहीं सोचा जा सकता है। इस बात को तो सभी जानते है कि अगर हम प्रकृति के साथ खिलवाड़ करेंगे तो प्रकृति भी तनिक नहीं सोचेगी हमारे साथ खिलवाड़ करने से। इस बात का हम लोगो को बहुत बार प्रकृति के द्वारा बताने का प्रयास किया जा चुका है। फिर भी हम लोग प्रकृति के लिए जागरूक नहीं बन पाए हैं।

पेड़ों के लगातार कटान के चलते मनुष्य के साथ जीव-जन्तुओं के लिए भी खतरा है। बहुत सी प्रजातियों पर इसका विपरीत प्रभाव पड़ता है। ये हमें आक्सीजन ही नहीं देते बल्कि कार्बन डाइऑक्साइड भी खत्म करते हैं।यह बात हम लोगो को समझनी पड़ेगी कि अगर प्रकृति है तो हम लोग है वरना कुछ नहीं। निसंदेह हमारे देश ने पर्यावण के लिए कई संस्थाएं बनाई है परन्तु अफसोस के साथ कहना पड़ रहा है कि पर्यावरण के बारे में सोचने वाला कोई नहीं है, प्यार करने वाला कोई नहीं है। सड़क बनाने से पहले उन लोगो को देख लेना चाहिए जो लोग इमारत के अंदर से भी सड़क बना देते हैं। विनाश करके विकास करना यह शायद बस कुछ लोगो को ही पसंद होगा, विकास भी जरूरी है परन्तु पर्यावरण को ध्यान में रखते हुए किया गया विकास ही सर्वोपरि है।

RELATED ARTICLES

महिला आरक्षण बिल कब आएगा?

भारतीय जनता पार्टी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार महिला आरक्षण बिल के बारे में क्या सोच रही है, यह पता नहीं चल रहा...

पर्यावरण (Environment) :असरकारी आवाज उठे

भारत डोगरा विश्व में 'डूमस्डे क्लाक' अपनी तरह की प्रतीकात्मक घड़ी है जिसकी सुइयों की स्थिति के माध्यम से दर्शाने का प्रयास किया जाता...

मध्यप्रदेश ने जलाई हिंदी की मशाल

वेद प्रताप वैदिक केरल, तेलंगाना और तमिलनाडु के क्रमश: मुख्यमंत्री, मंत्री और नेताओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मांग की है कि उनके प्रदेशों पर...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय

दुनिया को एकता के सूत्र में पिरोने का कार्य किया ‘संत रविदास’ ने – रेखा आर्या

देहरादून: आज प्रदेश की कैबिनेट मंत्री रेखा आर्या संत रविदास की जयंती के अवसर पर सेलाकुई स्थित कार्यक्रम में पहुंची। जहां कार्यक्रम के दौरान...

पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ का दुबई के अस्पताल में हुआ निधन

नई दिल्ली:- पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ का निधन हो गया है। पाकिस्तान मीडिया के हवाले से यह खबर सामने आई है। मुशर्रफ...

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के नाम हुआ भारत के सबसे हैंडसम मुख्यमंत्री का खिताब

देहरादून: उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी अपनी सरल और सौम्य छवि के लिए काफी लोकप्रिय हैं। लोगों के बीच जाकर उनकी समस्याओं को...

ससुराल आयी दुल्हन नकदी और जेवर लेकर हुई फरार, ससुर की तहरीर पर मुकदमा दर्ज

कुशीनगर: जनपद के पटहेरवा थाना क्षेत्र के एक गांव में सुबह ससुराल पहुंची दुल्हन रात में ही नकदी और गहने लेकर लापता हो गई।...

बैंक ऑफ बड़ौदा के तीसरी तिमाही के शुद्ध लाभ में 75 प्रतिशत का उछाल

दिल्ली: सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक ऑफ बड़ौदा ने वर्ष 2022-23 में गत दिसंबर को समाप्त तीसरी तिमाही में 75 प्रतिशत की वृद्धि के साथ...

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में पति-पत्नी समेत दो बच्चों की मौत, आसपास मचा कोहराम, घटना की जानकारी जुटाने में लगी पुलिस

उत्तर प्रदेश: गोरखपुर जिले के गोला थाना इलाके के देवकली गांव में शनिवार की देर रात पति-पत्नी और दो बच्चों की जलने से मौत...

धाकड़ ध्यानी के दमदार फैसलों पर सीएम धामी की मुहर, पिटकुल MD पद पर मिला एक साल का सेवा विस्तार

ईमादार और पारदर्शी फैसलों से पीसी ध्यानी ने जीता सबका दिल देहरादून: ऊर्जा क्षेत्र में पारदर्शिता और स्वस्थ कार्यप्रणाली प्रबंधन विकसित करने की कवायद में...

फिर बजा पीएम मोदी का डंका, दुनियाभर के नेताओं में रहे टॉप पर- बाइडेन और सुनक काफी पीछे

नई दिल्ली: पिछले साल की तरह इस साल भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेता के तौर पर चुना गया है।...

बॉलीवुड के स्टार कपल रितेश देशमुख और जेनेलिया डिसूजा अपनी शादी की सालगिरह मनाने पहुंचे मसूरी

मसूरी: बॉलीवुड के स्टार कपल रितेश देशमुख और जेनेलिया डिसूजा देशमुख अपनी शादी की सालगिरह मनाने पहाड़ों की रानी मसूरी पहुंचे। ये कपल चार...

आज का राशिफल

मेष :– समय फायदेमंद है। परिस्थितियां अनुकूल हैं। अपनी मेहनत और कार्य कुशलता से उम्मीद के मुताबिक फायदा मिलेगा। व्यस्तता के बावजूद अपने रिश्तेदारों...