Tuesday, November 29, 2022
Home उत्तराखंड उत्तराखंड में बेसहारा, घायल गायों व गोवंशों के लिए देवदूत हैं शादाब अली

उत्तराखंड में बेसहारा, घायल गायों व गोवंशों के लिए देवदूत हैं शादाब अली

देहरादून: सूचना विभाग में कार्यरत सुरेश भट्ट जी द्वारा फोन पर सूचना मिलते ही भारतीय गौरक्षा वाहिनी के अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व उत्तराखंड प्रभारी शादाब अली दुर्घटना की शिकार हुई गाय का रेस्क्यू करने तुरंत मौके पर पहुँचे। उन्होंने अपनी टीम के साथ गाय का रेस्क्यू करने के साथ इलाज शुरू कर दिया।

 युवा शादाब अली बने सहारा

बेसहारा गोवंश के शुभचिंतक अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ भारतीय गौ रक्षा वाहिनी के शादाब अली ने आज रिंग रोड सूचना भवन के सामने एक गाय व बछड़े की शिकायत मिलने पर तत्काल नगर निगम डॉक्टर तिवारी के सहयोग से गाय व बछड़े को सही स्थान पर ले जाने का काम किया गया जिसमें नगर निगम की टीम में सुमेंद्र, सूरज, राजेश, पिल्ला, भी मौजूद रहे। बेसहारा गायों व गोवंशों को सहारा देने के लिए उत्तराखंड में सरकार द्वारा पिछली सरकार 37 लाख 70 हजार रुपये खर्च कर गोशाला का निर्माण कराया था। गोशाला बनकर तैयार होने के बाद भी उसमें गायों को नहीं रखा जा रहा है, जिस वजह से गाय भूखे मर रही है। जिम्मेदार प्रशासन इन गायों का पेट नहीं भर पा रहा है। अब इन गायों का पेट भरन भरण को लेकर उत्तर प्रदेश उत्तराखंड अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के भारतीय रक्षा वाहिनी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवंम उत्तराखंड प्रभारी शादाब अली ने लगातार मांग की है


जिन गायों का पंचायत और प्रशासन नहीं भर पाया पेट उनके लिए युवा शादाब अली ने कई बार अपनी मनी पॉकेट से भी मरी हुई गायों को उठाकर सही स्थान पर भिजवाने का काम किया है वही आज जिस तरह से सूचना भवन तपोवन रोड से सूचना के माध्यम से शादाब अली को पता चला कि एक गाय दुर्घटना का शिकार हो गई है उसके साथ एक गाय का बछड़ा भी है जिसकी सूचना पाकर तत्काल नगर निगम डॉक्टर तिवारी जी की मदद से उनकी पूरी टीम को मौके पर पहुंचकर गाय व बछड़े को उठाकर सही स्थान पर ले जाने का काम किया गया है ऐसे ही समय-समय पर कई बार सरकारी सुविधाओं न मिलने पर होने वाली कई जगह पर छुटपुट घटनाओं से मायूस होकर भी शादाब को लौटना पड़ा है जिसके लिए उत्तराखंड के मुख्यमंत्री से लेकर उच्च अधिकारियों को भी लिखित में अवगत कराया जा चुका है लेकिन आज भी अल्पसंख्यक समाज से गौ सेवा करने वाले शादाब अली की ओर किसी का ध्यान नहीं है।

हमेशा बेसहारा गायों व गोवंशों को सहारा देने के लिए उत्तराखंड में सरकार द्वारा 37 लाख 70 हजार रुपये खर्च कर गोशाला का निर्माण कराया था। गोशाला बनकर तैयार होने के बाद भी उसमें गायों को नहीं रखा जा रहा है, जिस वजह से गाय भूखे मर रही है। जिम्मेदार प्रशासन इन गायों का पेट नहीं भर पा रहा है। अब इन गायों का पेट भरने के लिए युवाओं ने बीड़ा उठाया है। युवाओं ने इसके लिए टीम बनाई है, यह टीम इंटरनेट मीडिया के माध्यम से गायों के लिए कई बार भूसा व ठंड में पुराल देने का काम भी किया है।


कुछ समय अच्छा सहयोग भी मिला

उल्लेखित है कि, सड़कों पर घुमने वाली बेसहारा गायों की देखभाल करने के लिए रुपये की लागत से गोशाला का निर्माण कराया गया था। एक साल पहले यह गोशाला बनकर तैयार हो गई है, लेकिन अभी तक के हैंडऑवर नहीं की है। जिस वजह से पिछले एक साल से गोशाला पर ताला लटका हुआ है। हालांकि प्रशासन गौशाला संचालन करने की जिम्मेदारी स्व-सहायता समूह को सौंपने की बात कह रहा था, लेकिन अभी तक गोशाला की जिम्मेदारी न तो समूह को दी गई और नहीं भारतीय रक्षा वाहिनी के किसी भी एक सदस्य को। इस वजह से गौशाला का संचालन नहीं हो पा रहा है। भूख मरने के कारण मवेशी खेतों में चरकर किसानों की फसलों को बर्बाद कर रहे हैं। ऐसे गाय, गौवंशों का पेट भरने के लिए युवा शादाब ने अच्छी पहल की है। युवाओं की टीम गायों को गोशाला में रखकर उनके लिए चारे-पानी की व्यवस्था कर रही है। इसके लिए कर रहे हैं। कई बार उत्तर प्रदेश में ग्रामीण भी युवाओं की इस पहल की सरहाना करते हुए नगदी चंदा व भूसा दे रहे हैं।


RELATED ARTICLES

उत्तराखंड में अब बेरोजगार युवाओं को घर बैठे मिलेगी नौकरी, उपनल और पीआरडी दफ्तरों के नहीं काटने होंगे चक्कर

देहरादून:- उत्तराखंड में अब सरकारी विभागों में संविदा पर नौकरी के लिए अब युवाओं को दफ्तरों के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे। उन्हें सेवायोजन आउटसोर्सिंग...

धामी सरकार की अनूठी पहल, स्कूली छात्र भी नए बिजनेस आइडिया से बन सकेंगे उद्यमी, जल्द कैबिनेट में आयेगा नीति का प्रस्ताव

देहरादून: उत्तराखंड में स्टार्टअप को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने 2018 में स्टार्टअप नीति लागू की थी। इस नीति में तकनीकी शिक्षण संस्थानों...

उत्तराखंड में अगर आप अपना वोट बनवाना चाहते हैं तो तैयार हो जाएं, 3 और 4 दिसंबर को आपके नजदीकी बूथ पर मिलेंगे बीएलओ

देहरादून: उत्तराखंड में रहते हैं और अभी तक आपने अपना वोटर आईडी कार्ड नहीं बनाया है तो तैयार हो जायें। एक बार फिर इसको...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय

उत्तराखंड में अब बेरोजगार युवाओं को घर बैठे मिलेगी नौकरी, उपनल और पीआरडी दफ्तरों के नहीं काटने होंगे चक्कर

देहरादून:- उत्तराखंड में अब सरकारी विभागों में संविदा पर नौकरी के लिए अब युवाओं को दफ्तरों के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे। उन्हें सेवायोजन आउटसोर्सिंग...

धामी सरकार की अनूठी पहल, स्कूली छात्र भी नए बिजनेस आइडिया से बन सकेंगे उद्यमी, जल्द कैबिनेट में आयेगा नीति का प्रस्ताव

देहरादून: उत्तराखंड में स्टार्टअप को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने 2018 में स्टार्टअप नीति लागू की थी। इस नीति में तकनीकी शिक्षण संस्थानों...

उत्तराखंड में अगर आप अपना वोट बनवाना चाहते हैं तो तैयार हो जाएं, 3 और 4 दिसंबर को आपके नजदीकी बूथ पर मिलेंगे बीएलओ

देहरादून: उत्तराखंड में रहते हैं और अभी तक आपने अपना वोटर आईडी कार्ड नहीं बनाया है तो तैयार हो जायें। एक बार फिर इसको...

किसान को अच्छी पैदावार और गुणवत्ता युक्त पौध उपलब्ध कराया जाय-मंत्री जोशी

देहरादून: कृषि एवं उद्यान मंत्री गणेश जोशी ने सोमवार को सचिवालय स्थित एफआरडीसी सभागार में उद्यान विभाग के अधिकारियों के साथ एक सप्ताह पूर्व...

विभागीय मंत्री के अनुमोदन के बाद शासन ने जारी किया शासनादेश, पर्वतीय जनपदों में मेडिकल फैकल्टी को मिलेगा 50 प्रतिशत अतिरिक्त भत्ता

देहरादून: राज्य के पर्वतीय क्षेत्रों में स्थापित राजकीय मेडिकल कॉलेजों में अब नियमित एवं संविदा पर तैनात फैकल्टी को वेतन के अतिरिक्त 50 प्रतिशत...

29.11.2022 से प्रस्तावित “विधानसभा सत्र” के दौरान देहरादून शहर का यातायात प्लान निम्नवत रहेगा

देहरादून: विधानसभा-सत्र के दौरान धरना प्रदर्शन आदि के दृष्टिगत यातायात / कानून व्यवस्था बनाये रखने हेतु देहरादून के निम्न स्थलों पर बैरियर प्वाईंट निर्धारित...

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के भाजपा प्रत्याशियों के समर्थन में हुई जनसभाओं को सुनने को उमड़ रही भीड़

देहरादून: हिमाचल विधानसभा चुनाव की तरह ही दिल्ली नगर निकाय चुनाव में भी धामी-धामी हो रहा है। दिल्ली दंगल में देवभूमि के सीएम को...

गुरुकुल विश्वविद्यालय में तैनात प्रोफेसर को साइबर ठगों ने बनाया निशाना, खाते से उड़ाए लाखों रुपये

देहरादून: गुरुकुल विश्वविद्यालय में तैनात प्रोफेसर को साइबर ठगों ने निशाना बनाते हुए खाते से रकम साफ कर दी। बिजली का कनेक्शन और बिल...

उड़ान योजना के अगले टेंडर में शामिल की जाएगी गौचर व चिन्यालीसौङ की हवाई सेवा

चमोली: मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने रविवार को नई दिल्ली में केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया से भेंट कर उत्तराखण्ड में हवाई सेवाओं...

अकेले पुष्कर पर ही निशाना क्यों..? धामी ने नई लकीर खींचकर विधानसभा में बैकडोर एंट्री पर लगवाया प्रभावी अंकुश

देहरादून: उत्तराखंड विधानसभा में तदर्थ भर्ती को विचलन से मंजूरी कोई 2022 में पहली बार नहीं दी गई। राज्य के लगभग हर सीएम के...