Thursday, October 6, 2022
Home ब्लॉग फूलों की मन मोहक घाटी ( Valley Of Flowers)

फूलों की मन मोहक घाटी ( Valley Of Flowers)

घाटी का नाम वैलि ऑफ फ्लावर्स (Valley Of Flowers) कैसे पड़ा और इस जगह को किसने खोजा ??

‘फूलों की घाटी’ को ढूंढने का श्रेय पर्वतारोही फ्रैंक स्मिथ (Frank Smith) को जाता है। यह घटना वर्ष १९३१ (1931) को तब घटी जब प्रसिद्ध ब्रिटिश पर्वतारोही फ्रैंक स्मिथ अपने दल के साथ गढ़वाल में स्थित कामेट शिखर पर आरोहण करने के लिए पहुँचे। कामेट शिखर पर चढ़ने के बाद कुछ का मानना है की वे बद्रीनाथ की ओर जा रहे थे तो उन्हे यहाँ फूलों की घाटी के दर्शन हुए, और कुछ का मानना है की कामेट शिखर पर चढ़ने के बाद वे दल के साथ नीति घाटी में धौली गंगा के निकट गमशाली गाँव पहुँचे। रास्ता भटक जाने के बाद वे पश्चिम की ओर बढ़ते भ्यूंडार घाटी में पहुँचे। कुछ आगे बढ़ने पर उन्हें फूलों की घाटी के दर्शन हुए। जिसको देख वे भावविभोर और मंत्रमुग्द हो गए जिसके पश्चात उन्होने अपना तम्बू ही इस अद्धभुत, सौंदर्यमई घाटी में तान दिया।

१९३७(1937) में वे दुबारा इस घाटी में पहुँचे। उन्होनें यहाँ व्यापक सर्वेक्षण कर पुष्पों व वनस्पति प्रजातियों की करीब ढाई हज़ार किस्में ढूंढ निकाली, जिनमें से वे ढाई सौ किस्म के बीज वे अपने साथ विदेश ले गए। जाने के बाद उन्होनें वहाँ “द वैलि ऑफ फ्लावर्स”(The Valley Of Flowers) पुस्तक लिखी। पुस्तक प्रकाशित होते ही देश विदेश में मशहूर व परिचित हो गई। फूलों की घाटी, पूरी दुनियाँ का ध्यान इसकी ओर आ गया। विदेशी पर्यटक, जिज्ञासु व शोधार्थी घाटी में आने लगे। वर्ष १९३९(1939) में लंदन से एक युवती जान मारग्रेट लैग फूलों का अध्ययन करने यहाँ पहुँची दुर्भाग्य से ४(4) जुलाई के दिन वह चट्टान से फिसलकर गिर गई और इस घाटी में सदा के लिए सो गई। उसकी याद में आज भी घाटी के बीच में एक स्मारक बनाया गया है।

फूलों की घाटी सीमांत चमोली जनपद में बद्रीनाथ धाम के निकट नर और गंध मादन पर्वतों के बीच स्थित है। गोविंद घाट से घांघरिया तक हेमकुंड (Hemkund) व फूलों की घाटी का एक ही मार्ग है। घांघरिया से हेमकुंड (Hemkund) 6 किलोमीटर व फूलों की घाती 3 किलोमीटर ऊंचाई पर है। घाटी में पुष्पावती नदी बहती है जो की कामेट पर्वत (पुष्पतोया ताल) से निकलती है। यहाँ का मुख्य आकर्षण हजारों किस्म के फूल और दुर्लभ जन्तु हैं। इसका क्षेत्रफल ८७.५ (87.5) किलोमीटर है और मुख्यालय जोशीमठ है फूलों की घाटी को स्कंदपुराण में नंदनकानन कहा गया है नवम्बर से मई तक घाटी में बर्फ का साम्राज्य रहता है। जून में बर्फ पिघल कर यहाँ हरियाली छा जाती है। फूलों के पौंधे बढ़ने लगते हैं। अगस्त में घाटी में  फूलों का यौवन सर्वाधिक दर्शनीय व आकर्षक हो जाता है अक्टूबर में धीरे-धीरे फूल सिकुड़ जाते हैं।

यहाँ अनेक दर्शनीय पुष्प-पदम पुष्कर, पुष्प प्रिमुला, नीली पापी, विष कंडार, ब्रह्मकमल, वत्सनाम, शालमपंजा, हिमकमल तथा अनेक औषधीय पुष्प यथा- रुद्रदंती, शिवधतूरा, कूट, सोम, रतनजोत, ममीरी, निर्विषी और जटामासी मिलते हैं। फूलों की घाटी को सरंक्षण व जैव विविधता संवर्द्धन के लिए भारत सरकार द्वारा 6 नवम्बर १९८२(1982) को राष्ट्रीय उद्यान( National Park) घोषित कर दिया और 14 जुलाई २००५(2005) को युनेस्को ने इसे विश्व विरासत (World Heritage) की श्रेणी में सम्मिलित कर लिया।

अब यदि फ्रैंक स्मिथ फूलों की घाटी में आते तो वे घनी जंगली झड़ियों और घास में ही फस कर रह जाते और फूलों के कदाचित ही दर्शन कर पाते। आज उस खूबसूरत घाटी से फूलों की चादर और महकती बहार अब गायब होते जा रही है और घनी जंगली झारियों व घास तेजी से बढ़ता-फैलता जा रहा है। रोशनी और खुलेपन से वंचित इनके नीचे जमीन पर खिलने वाले फूल एक-एक करके दम तोड़ रहे हैं।

RELATED ARTICLES

Dussehra 2022: शारदीय नवरात्रि के बाद दशमी तिथि को मनाया जाता है दशहरा, जानिए इसका महत्व, शुभ मुहूर्त,पूजन विधि

Dussehra 2022: हिंदू धर्म में दशहरे के त्योहार का खास महत्व होता है। शारदीय नवरात्रि के बाद दशमी तिथि को दशहरा मनाया जाता है।...

तीसरा चुनाव आयुक्त है ही नहीं!

चुनाव आयोग के सामने बहुत बड़ा मामला लंबित है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद उसे शिव सेना के बारे में फैसला करना है।...

Sarvapitri Amavasya: सर्वपितृ अमावस्या कब है? क्या है इस दिन का महत्व व कैसे करें सर्वपितृ अमावस्या का श्राद्ध, जानिए

पितृ पक्ष 10 सितंबर से शुरु हो चुके है, जो कि 25 सितंबर तक चलेंगे, यानि पितृ पक्ष का अंतिम दिन 25 सितंबर को...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय

सीएम धामी ने दुर्घटनाओं से प्रभावितों को 2 लाख की आर्थिक सहायता देने का किया ऐलान

देहरादून: मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बुधवार को सिमडी, पौड़ी में हुई बस दुर्घटना स्थल का जायजा लिया। इस अवसर पर उनके साथ पूर्व...

केदारनाथ धाम में श्रद्धालुओं की बढ़ती संख्या को देखते हुए जल्द मिलेंगी तिरुपति बालाजी जैसी सुविधाएं

देहरादून: प्रसिद्ध केदारनाथ धाम में श्रद्धालुओं की बढ़ती संख्या को देखते हुए तिरुपति बालाजी ट्रस्ट सुविधाओं में मददगार बनेगा। सात अक्तूबर को आंध्र प्रदेश...

परेड ग्राउंड में भव्य तरीके से मनाया जाएगा दशहरा

देहरादून: अबकी बार देहरादून के परेड ग्राउंड पर पांच अक्तूबर को दशहरे का आयोजन भव्य बनाने के लिए दशहरा कमेटी बन्नू बिरादरी ने पूरी...

संगीत प्रेमियों को महानवमी पर “केपीजी प्रोडक्शन” की अनुपम भेंट

देहरादून: नवरात्रि महान नवमी के अवसर पर केपीजी प्रोडक्शन की ओर से संगीत प्रेमियों को गढ़वाली भाषा में भक्ति से परिपूर्ण भेंट पेश की...

उत्तराखंड में हिमस्खलन से बड़ी आफत, 28 पर्वतारोही फंसे, 9 की मौत

उत्तरकाशी: उत्तरकाशी जिले में हिमस्खलन की वजह से पर्वतारोहण की ट्रेनिंग ले रहे प्रशिक्षार्थी बर्फ के पहाड़ पर फंस गए हैं। द्रौपदी का डांडा-2...

Sharadiya Navratri 2022: मुख्‍यमंत्री पुष्‍कर सिंह (CM Dhami) ने शारदीय नवरात्र की नवमी के पावन अवसर विधि विधान से किया कन्‍या पूजन

देहरादून: नवमी के दिन मंगलवार को उत्‍तराखंड भर में मां दुर्गा के नौ स्‍वरूपों की पूजा अर्चना का दौर जारी रहा। इस क्रम में...

Dussehra 2022: शारदीय नवरात्रि के बाद दशमी तिथि को मनाया जाता है दशहरा, जानिए इसका महत्व, शुभ मुहूर्त,पूजन विधि

Dussehra 2022: हिंदू धर्म में दशहरे के त्योहार का खास महत्व होता है। शारदीय नवरात्रि के बाद दशमी तिथि को दशहरा मनाया जाता है।...

केदार सिंह प्रकरण: थाना लक्ष्मण झूला प्रभारी को हटाने के निर्देश

देहरादून: अपर पुलिस महानिदेशक अपराध एवं कानून व्यवस्था डॉ0 वी0 मुरुगेशन मुख्य प्रवक्ता पुलिस मुख्यालय द्वारा बताया गया है कि केदार सिंह के प्रकरण...

सोमेश्वर पुलिस की बड़ी कार्यवाही कैंटर में 300 टिन अवैध लीसे की तस्करी कर तस्कर को किया गिरफ्तार

अल्मोड़ा: जनपद के सभी थाना/चौकी प्रभारियों को वन सम्पदा, खनिज पदार्थो आदि की अवैध तस्करी करने वालों के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही करने हेतु दिए...

अलर्ट – मौसम के अनुरूप यात्रा पर जाने के निर्देश, कुछ जिलों में येलो एवं ऑरेंज अलर्ट

देहरादून: मौसम विभाग ने Uttarakhand में कई जनपदों में 05-07 अक्टूबर को येलो, ऑरेंज व रेड अलर्ट जारी किया है। खास तौर पर उत्तरकाशी...