Wednesday, February 1, 2023
Home राष्ट्रीय वतन पर मिटने वालों का अब नया पता होगा: ऐतिहासिक इंडिया गेट पर 50 साल से जल...

वतन पर मिटने वालों का अब नया पता होगा: ऐतिहासिक इंडिया गेट पर 50 साल से जल रही अमर जवान ज्‍योति आज बुझ जाएगी

इंडिया गेट पर जल रही ‘अमर जवान ज्‍योति’ का राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर जल रही लौ में विलय होगा। रक्षा मंत्रालय के एक अधिकारी के अनुसार, शुक्रवार दोपहर अमर जवान ज्‍योति का एक हिस्‍सा नैशनल वॉर मेमोरियल ले जाया जाएगा। 3.30 बजे दोनों लौ का विलय समारोह होगा। दोनों स्‍मारकों के बीच की दूरी बमुश्किल आधा किलोमीटर है। करीब तीन साल पहले, 25 फरवरी 2019 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नैशनल वॉर मेमोरियल का उद्घाटन किया था। यहां 25,942 सैनिकों के नाम स्वर्ण अक्षरों में लिखे गए है।

नैशनल वॉर मेमोरियल

अमर जवान ज्‍योति:-कब, कहां और क्‍यों जलाई गई?

अमर जवान ज्‍योति

अमर जवान ज्‍योति दिल्ली की सबसे मशहूर जगहों में से एक, इंडिया गेट के नीचे स्थित है। इंडिया गेट को अंग्रेजों ने 1921 में बनवाया था, उन 84,000 सैनिकों की याद में जो पहले विश्‍व युद्ध और बाद में शहीद हुए। 3 दिसंबर से 16 दिसंबर, 1971 तक भारत और पाकिस्‍तान के बीच युद्ध चला। भारत की निर्णायक जीत हुई और बांग्‍लादेश अस्तित्‍व में आया। जब 1971 युद्ध खत्‍म हुआ तो 3,843 शहीदों की याद में एक अमर ज्‍योति जलाने का फैसला हुआ। जगह चुनी गई इंडिया गेट। तत्‍कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने 26 जनवरी 1972 को (भारत का 23वां गणतंत्र दिवस) अमर जवान ज्‍योति का उद्घाटन किया।

निस्‍वार्थ समर्पण और बहादुरी का प्रतीक है अमर जवान ज्‍योति

अमर जवान ज्‍योति एक काले मार्बल का फलक है जिसके चारों तरफ स्‍वर्णाक्षरों में ‘अमर जवान’ लिखा हुआ। इसके ऊपर एक L1A1 सेल्‍फ लोडिंग राइफल रखी है और उसपर एक सैनिक का हेलमेट किसी मुकुट की तरह रखा गया है। इस फलक के चारों तरफ कलश रखे हुए हैं, जिनमें से एक में ज्‍योति 1971 से जली आ रही है। यूं तो चारों कलशों में ज्‍योति जलती है मगर पूरे साल भर चार में से एक ही ज्‍योति चलती रहती है। स्‍वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस पर चारों कलशों की ज्‍योति जलाई जाती है। अमर जवान ज्‍योति पर सेना, वायुसेना और नौसेना के सैनिक तैनात रहते हैं। 1971 के 2006 के बीच, ज्‍योति जलाने के लिए LPG का इस्‍तेमाल होता था। उसके बाद से सीएनजी इस्‍तेमाल की जानी लगी।

क्‍यों इतनी खास है अमर जवान ज्‍योति?

यहां शहीदों के नाम स्‍वर्णाक्षरों में अंकित हैं। 1971 में निर्माण के बाद से हर साल गणतंत्र दिवस परेड से पहले राष्‍ट्रपति, प्रधानमंत्री, तीनों सेनाओं के प्रमुख और अन्‍य गणमान्‍य हस्तियां अमर जवान ज्‍योति पर माल्‍यार्पण करती हैं। हर साल उन गुमनाम शहीदों को श्रद्धांजलि दी जाती है जिन्‍होंने भारत की रक्षा में जान कुर्बान कर दी। हालांकि फरवरी 2019 में राष्‍ट्रीय युद्ध स्‍मारक के उद्घाटन के बाद से, यह परंपरा वहां शिफ्ट हो गई। इसके बावजूद इंडिया गेट स्थित अमर जवान ज्‍योति पर भारी भीड़ जुटा करती थी। फिलहाल यह एरिया सेंट्रल विस्‍टा प्रॉजेक्‍ट के निर्माण की वजह से बंद है।

नैशनल वॉर मेमोरियल

अब नैशनल वॉर मेमोरियल में अमर चक्र

नैशनल वॉर मेमोरियल

नैशनल वॉर मेमोरियल के अमर चक्र में भी अमर जवान ज्योति है। इंडिया गेट पर जल रही लौ को इसी में मर्ज किया जाना है। गणतंत्र दिवस परेड से पहले शहीदों को श्रद्धांजलि देने की परंपरा अब यहां शिफ्ट हो गई है। उससे इतर भी, अहम अवसरों पर सेना के वरिष्‍ठ अधिकारी यहां माला अर्पण करते हैं।

RELATED ARTICLES

काम की खबर, जानिए आम बजट 2023 में मोदी सरकार ने क्या किया सस्ता और क्या महंगा..?

नई दिल्‍ली: आम बजट में आम लोगों की निगाहें आमतौर पर इस बात पर रहती हैं कि कौन-सी चीज सख्‍ती हुई और कौन-सी महंगी।...

मोदी सरकार ने दी मीडिल क्लास को सबसे बड़ी राहत, अब 7 लाख तक सलाना कमाने वाले को नहीं देना होगा कोई टैक्स, जानें...

नई दिल्ली: मोदी सरकार ने बजट में मीडिल क्लास को बड़ी राहत दी है। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट में मध्यमवर्गीय नागरिकों...

दो दिवसीय दौरे पर आज गोरखपुर आएंगे सीएम योगी आदित्यनाथ, जनता दरबार में फरियादियों की समस्याएं भी सुनेंगे

उत्तर प्रदेश: दो दिवसीय दौरे पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मंगलवार को गोरखपुर आएंगे। उनके यहां दोपहर बाद पहुंचने की उम्मीद है। मंदिर में रात्रि...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय

उत्तराखंड में भी होगा भारत सीरीज नंबरों ( BH Series Number) का रजिस्ट्रेशन शुरू, अन्य राज्यों में जाने पर नहीं बदलनी पड़ेगी नंबर प्लेट,...

देहारादून: उत्तराखंड से अन्य राज्यों में स्थानांतरित होकर जाने वाले वाहन स्वामियों को नंबर बदलने और टैक्स जमा करने के फेर में नहीं पड़ना...

काम की खबर, जानिए आम बजट 2023 में मोदी सरकार ने क्या किया सस्ता और क्या महंगा..?

नई दिल्‍ली: आम बजट में आम लोगों की निगाहें आमतौर पर इस बात पर रहती हैं कि कौन-सी चीज सख्‍ती हुई और कौन-सी महंगी।...

मोदी सरकार ने दी मीडिल क्लास को सबसे बड़ी राहत, अब 7 लाख तक सलाना कमाने वाले को नहीं देना होगा कोई टैक्स, जानें...

नई दिल्ली: मोदी सरकार ने बजट में मीडिल क्लास को बड़ी राहत दी है। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट में मध्यमवर्गीय नागरिकों...

’स्पेशल 26’ की तरह उत्तराखंड में सरकारी नौकरी के नाम पर बेरोजगारों युवाओं के साथ बड़ा खेल

हरिद्वार: ’स्पेशल 26’ की तरह उत्तराखंड में सरकारी नौकरी के नाम पर बेरोजगारों युवाओं के साथ बड़ा खेल हो गया। पांच से दस लाख...

डीजल आटो विक्रम अब देहरादून-हरिद्वार से कहेंगे अलविदा, 31 मार्च 2023 है लास्ट डेट, अब चलेंगे बीएस-6 श्रेणी के यात्री वाहन

देहरादून: उत्तराखंड के दो शहरों देहरादून-हरिद्वार में डीजल आटो विक्रम अब बीते दिनों की बात हो जायेंगे। संभागीय परिवहन प्राधिकरण की बैठक के बाद...

उत्तराखंड की मानसखंड झांकी को देश में पहला स्थान, सूचना महानिदेशक बंशीधर तिवारी ने किया पुरस्कार ग्रहण

देहरादून: गणतंत्र दिवस पर नई दिल्ली में कर्तव्य पथ पर हुई परेड में उत्तराखंड की झांकी मानसखंड को प्रथम स्थान के लिए मंगलवार को...

राजस्थान में अल्ट्रामेगा अक्षय ऊर्जा पावर पार्क्स स्थापित करेगी टीएचडीसी

ऋषिकेश: राजस्थान में टीएचडीसी राजस्थान अक्षय ऊर्जा निगम के साथ मिलकर अल्ट्रामेगा अक्षय ऊर्जा पावर पार्क्स की स्थापना करेगी। इससे प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रूप...

उत्तराखंड शिक्षा विभाग से बड़ी खबर, शिक्षामंत्री धन सिंह रावत बोले पारदर्शी तबादलों के लिए बनाई जा रही है नियमावली

देहरादून: उत्तराखंड का शिक्षा मंत्री बनने के बाद से डॉ धन सिंह रावत न विभाग में बड़ा सुधार किया है। अब शिक्ष मंत्री तबादलों...

धर्म परिवर्तन न करने पर पत्नी को दी हत्या की धमकी, आरोपी पति गिरफ्तार

हरिद्वार: अपना धर्म छिपाकर युवती को प्रेम जाल में फंसाकर शादी कर लेने के नौ साल बाद असली धर्म की हकीकत सामने आने पर...

क्रेडिट कार्ड से रेंट भरने पर अब लगेगा एक्सट्रा चार्ज, इस बैंक ने ग्राहकों को दिया बड़ा झटका

नई दिल्ली: देश में बहुत सारे लोग क्रेडिट कार्ड से मकान का रेंट भी भरते हैं। पेटीएम, क्रेड, नो ब्रोकर, पेजैप, रेड जिराफ जैसे...