Monday, October 3, 2022
Home ब्लॉग जो जैसा करे उसके साथ वैसा ही बर्ताव करो, जैसे से तैसा बरतने की जरुरत आन पड़ी...

जो जैसा करे उसके साथ वैसा ही बर्ताव करो, जैसे से तैसा बरतने की जरुरत आन पड़ी है।

मेरी पीडा मुझसे न पूछ मैं खुद के घर से दंडित हूं। मुझे बचाने कोई न आया मैं कश्मीरी पंडित हूं।।
सवाल सियासत का नहीं,
सवाल हिमाकत का नहीं,
सवाल वक्त के नजाकत नहीं,
सवाल सिर्फ सवाल इन्सानियत का है।।

आखिर कहां चले गये सर्व धर्म सम्भाव का ढपोरशंखी भाषण पिलाने वाले? कहां चले गये थे सारे जहां से अच्छा का गीत गाने वाले? कहां चले गये थे मजहब नहीं सिखाता आपस में बैर करना का शिगूफ़ा सुनाने वाले? कहां चले गये थे इस देश में इन्सानियत का फर्ज निभाने वाले? कहां चले गये थे धर्म मजहब के ठेकेदार जो सबको समान आदर सबको समान यथेष्ट सम्मान से सलूक करने की गली-गली गला फाड़-फाड़ कर भाषण करते हैं? वो कहां मर गये थे जिन्हें अक्खड़पन है की देश की सत्ता हमारी कौम के बिना नहीं चल सकती है?

सदियों-सदियों से राजसत्ता से लेकर सियासत तक में दमदार दखल रखने वाले परशुराम के वंशज जो सैकड़ों संगठन बनाकर सियासत की दूकान चला रहें है? कश्मीरी पंडितों के समर्थन में क्यो नहीं उतरे सडक़ों पर? क्यों नहीं कश्मीर कूच का ऐलान किया? क्यों गिरवी रख दिये अपना मान-सम्मान स्वाभिमान? जब कश्मीरी पंडितों का कत्लेआम सरेयाम हो रहा था कहां सो रहे थे इस देश के अधिनायक? बात निकलेगी तो बहुत दूर तलक जायेगी बहुत दर्द है आज जो कुछ दिखाया जा रहा है देख कर शर्म आ रही है चुल्लू भर पानी में डुब मरो चाणक्य के वंशजों। भगवान परशुराम के अनुयाइयों। इन दंगाईयों को सबक सिखाने की हिम्मत नहीं जुटा पाये। अपने भाईयों को आजाद भारत में बे मौत मरते देखते रहे। कोई पैदा नहीं हुआ चनद्रशेखर आजाद। बर्बाद हो गया कश्मीरी पंडितों का समाज। बेशर्म सियासत के दोगले रहनुमा 1990 से आज तक उन सांपों को दूध पिलाते रहे। गाते रहे सारे जहां से अच्छा हिन्दुस्तान हमारा। भला हो उस निर्माता का जो असलियत को दुनियां के सामने परोस दिया। दोगले सियासत बाजों की जबान को खामोश कर दिया। दहल उठा है सारा देश। बदल गया घर-घर का परिवेश। आज हम अपने को भाग्यशाली मानते है की देश भक्त मोदी महान ने सम्मान के साथ हिन्दुस्तान के कलंकित इतिहास पर आधारित ‘द कश्मीर फाईल्स’ मुवी का उद्घाटन कर उच्चाटन मन्त्र का जाप शुरू करा दिया? सोते समाज को जगा दिया।

कृते प्रतिकृतिं कुर्याद्विंसिते प्रतिहिंसितम्।
तत्र दोषं न पश्यामि शठे शाठ्यं समाचरेत्॥

जो जैसा करे उसके साथ वैसा ही बर्ताव करो। जो तुम्हारी हिंसा करता है, तुम भी उसके प्रतिकार में उसकी हिंसा करो! इसमें मैं कोई दोष नहीं मानता, क्योंकि शठ के साथ शठता ही करने में उपाय पक्ष का लाभ है।

देश में हलचल है। आग फैलती जा रही है। लोगों के दिलों में नफरत की आंधी चल रही है। मगर यह हिन्दू समाज तफरका में विश्वास नहीं रखता वसुधैव कूटुम्बकम का सूत्र उसके खून में समाहित है। इसी लिये उसका इतिहास कलंकित है। इतिहास गवाह है इस देश के आन बान शान को बरबाद करने के लिये विधर्मियों ने बार-बार सनातनी समाज को विखंडित करने का घिनौना प्रयास किया। सैकड़ों साल तक अत्याचार का खेल खेला! मगर कुछ बात है कि हस्ती मिटती नहीं हमारी। देश को लूट कर चले आक्रान्ता। चले गये व्यापारी। मगर आज भी सनातनी समाज सम्बृद्धि के साथ समता का बिजारोपण करते हुये वैभवशाली व्यवस्था का अनुगामी बना हुआ है! सनातनी समाज के लिये 1990 की घटना ने आखरी तबाही की कील कश्मीर मे ठोक दिया। हजारों लोगों को मौत के मुंह में झोंक दिया! आज उसी पर आधारित सच ‘द कश्मीर फाईल्स’ मुवी का प्रदशर्न जन जागरण करा रही है। कश्मीरी पंडितों की तबाही अत्याचार की कहानी बता रही हैं।

देश द्रोही गद्दारों की जमात इसका भी विरोध कर रही है! जगह-जगह पाबंदी कर रही है। मगर जन सैलाब कि आवाज बन चुकी मुवी को रोकना आसान नहीं! यह 1990 का हिन्दुस्तान नहीं है। मोदी है तो कुछ भी मुमकिन है।मानवाधिकार जिसका हौवा बनाती है सरकार। कश्मीर में नाकाम है। वह भी वहीं कामयाब है जहां मुद्दा बेकार है।आजाद भारत में दूसरी बार कश्मीर में हैवानियत का खेल सियासतदारो की मिलीभगत से खेला गया। तत्कालीन सरकार तत्कालीन रसूखदार तत्कालीन मानवाधिकार संगठन आंखें मूंद कर तमाशा देखते रहे। कश्मीर जलती रही। कश्मीरी पंडितों का बलिदान होता रहा। देश का संविधान रोता रहा। शर्म से सर झुक जाता है अपने को हिन्दुस्तानी कहने पर जितना अत्याचार हुआ कश्मीरी बहनों पर। उठो सिंह सावको मां भारती पुकार रही है। मिटा दो कलंकित इतिहास के पन्नों को। जनसमर्थन के सैलाब से मजबूत सरकार का निर्माण करो। ताकी राणा शिवा के शौर्य गाथा दुबारा सिंहनाद हो सके।

आताताइयों का सम्पूर्ण विनाश हो सके। सियासत के जहरीले सांप विष बमन कर रहें हैं। रोज-रोज रंग बदल रहे हैं। समय की मांग है जो तोकूँ कॉटा बुवै, ताहि बोय तू फूल। तोकूँ फूल के फूल हैं, बाकूँ है तिरशूल।। जैसे को तैसा की जरुरत आन पड़ी है। लेकिन इसके साथ ही सरकार पर की जिम्मेदारी है कश्मीरी पंडितों को कश्मीर में पुनर्स्थापित करें! उनके जान-माल सुरक्षा की व्यवस्था करें। उनका हक दिलाये। ऐसा नहीं हुआ तो केवल मूबी से लोग कुछ दिनों तक बदले की आग में जलते रहेंगे। फिर सब कुछ यथावत हो जायेगा। कश्मीर की घटना इतिहास में कहावत हो जायेगा? आज नहीं तो कल इसी को लेकर बगावत हो जायेगा।

RELATED ARTICLES

तीसरा चुनाव आयुक्त है ही नहीं!

चुनाव आयोग के सामने बहुत बड़ा मामला लंबित है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद उसे शिव सेना के बारे में फैसला करना है।...

Sarvapitri Amavasya: सर्वपितृ अमावस्या कब है? क्या है इस दिन का महत्व व कैसे करें सर्वपितृ अमावस्या का श्राद्ध, जानिए

पितृ पक्ष 10 सितंबर से शुरु हो चुके है, जो कि 25 सितंबर तक चलेंगे, यानि पितृ पक्ष का अंतिम दिन 25 सितंबर को...

Navratri: हम उपवास के दौरान प्याज और लहसुन से परहेज क्यों करते हैं?||Why we avoid onions and garlic during fast?||कारण ( reason)

Navratri: शारदीय नवरात्र आगामी 26 सितंबर से शुरु होने वाले है, हिंदु धर्म में शारदीय नवरात्र का विशेष महत्व होता है। इन दिनों माता...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय

बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और केंद्रीय गृह मंत्री अनुराग ठाकुर पहुंचे ऊना, आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर की बैठक

हिमाचल प्रदेश: भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा और केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर रविवार को ऊना पहुंचे। नड्डा ने लालसिंगी में भाजपा कार्यालय...

राज्यपाल ने टी.बी. एसोसिएशन ऑफ उत्तराखण्ड के टी.बी. के प्रति जनजागरूकता अभियान ‘‘टी.बी. सील’’ का किया अनावरण

देहरादून:- राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि) ने राजभवन में टी.बी. एसोसिएशन ऑफ उत्तराखण्ड के टी.बी. के प्रति जनजागरूकता अभियान ‘‘टी.बी. सील’’ का...

राज्य स्तरीय समान नागरिक संहिता विशेषज्ञ समिति के सदस्यों ने गोपेश्वर मुख्यालय और जनपद रुद्रप्रयाग के अगस्त्यमुनि में लोगों से मिलकर सुने उनके सुझाव

चमोली: जनपद के मुख्यालय गोपेश्वर में जनसामान्य के साथ बैठक का आयोजन महाविद्यालय परिसर में किया गया। इस बैठक में महिलाओं व युवाओं ने...

वरुण धवन और कृति सैनन की भेडिय़ा का टीजर जारी

वरुण धवन और कृति सैनन हॉरर फिल्म भेडिय़ा में जल्द नजर आएंगे। फिल्म 25 नवंबर को बड़े पर्दे पर आएगी। इसका निर्देशन अमर कौशिक...

अवैध स्मैक सहित पकड़ा गया ड्रग सप्लायर मिक्की वारसी

नैनीताल: जनपद नैनीताल पुलिस द्वारा वर्तमान में त्यौहारी सीजन के दौरान बढते अपराधो की रोकथाम व अवैध स्मैकतस्करी के विरूद्ध कोतवाली हल्द्वानी पुलिस व...

तीसरा चुनाव आयुक्त है ही नहीं!

चुनाव आयोग के सामने बहुत बड़ा मामला लंबित है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद उसे शिव सेना के बारे में फैसला करना है।...

समान नागरिक संहिता विषेशज्ञ समिति के सदस्यों द्वारा नागरिकों का पक्ष सुनने के लिए क्षेत्र में निर्धारित किया गया भ्रमण का कार्यक्रम

चमोली: राज्य स्तरीय समान नागरिक संहिता विषेशज्ञ समिति के सदस्यों द्वारा नागरिकों का पक्ष सुनने के लिए क्षेत्र में भ्रमण का कार्यक्रम निर्धारित किया...

PWD चीफ एयाज अहमद ने लगाई अधिकारियों की क्लास, तय समय में पूरा हो उत्तराखंड की सड़कों को गड्ढामुक्त करने का अभियान

देहरादून: उत्तराखंड में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के निर्देश पर शासन लगातार सड़कों को गड्ढा मुक्त करने के लिए दिशा निर्देश जारी कर रहा...

उत्तराखंड में बेसहारा, घायल गायों व गोवंशों के लिए देवदूत हैं शादाब अली

देहरादून: सूचना विभाग में कार्यरत सुरेश भट्ट जी द्वारा फोन पर सूचना मिलते ही भारतीय गौरक्षा वाहिनी के अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व...

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आयोजित की गयी प्रधानमंत्री पन्द्रह सूत्रीय कार्यक्रम क्रियान्वयन के लिए राज्य स्तरीय समिति की बैठक

देहरादून: मुख्य सचिव डॉ. एस.एस. संधु की अध्यक्षता में सचिवालय में प्रधानमंत्री जनविकास कार्यक्रम योजना के प्रस्तावों पर अनुमोदन हेतु प्रधानमंत्री पन्द्रह सूत्रीय कार्यक्रम...