डब्लूएचओ – छोटी से लापरवाही दे सकती है नये वेरियंट को न्यौता

0

दिल्ली: देश में कोरोना संक्रमण के मामलों में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है। विदेशों में ओमिक्रोन का असर भी कम हो रहा है। इसी बीच, विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कोरोना के अगले वैरिएंट को लेकर चेतावनी दी है।कोविड मामलों पर गठित डब्ल्यूएचओ की तकनीकी समूह की प्रमुख मारिया वान केरखोव ने कहा कि कोरोना का अगला वैरिएंट तेजी से फैलेगा। उन्होंने चेताया कि नया वैरिएंट अन्य वैरिएंट के मुकाबले ज्यादा घातक भी होगा। उन्होंने आगे कहा कि नया वैरिएंट ज्यादा संक्रामक होगा। इसमें कोरोना का टीका कम प्रभावी हो सकता है।

सबवैरिएंट (बीए-2) के विश्वभर में फैलने की आशंका

उधर, डब्ल्यूएचओ ने ओमिक्रोन वैरिएंट के सबवैरिएंट (बीए-2) के विश्वभर में फैलने की आशंका जताई है। मारिया वान केरखोव ने कहा कि बीए-2 सबवैरिएंट ओमिक्रोन के मौजूदा प्रभावी सबवैरिएंट बीए-1 से ज्यादा संक्रामक है। इसके जल्द ही प्रमुख वैरिएंट बनने का खतरा है। उन्होंने ये भी कहा कि यह पता लगाया जा रहा है कि जिन देशों में संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं, क्या उसकी वजह यही सबवैरिएंट है। उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा कि इसके सबवैरिएंट के अधिक गंभीर होने के संकेत नहीं मिले हैं। हालांकि, यह पता चला है कि यह बीए-2 की तुलना में डेढ़ गुना ज्यादा संक्रामक है।

टीका और मास्क लगाने की अपील

साथ ही उन्होंने लोगों से टीका और मास्क लगाने की अपील भी की है। उन्होंने कहा कि टीका लेने वालों से इस सबवैरिएंट के फैलने का खतरा कम है।