Wednesday, February 1, 2023
Home उत्तराखंड उत्तराखण्ड राज्य के लिए विश्व बैंक ने स्वीकृत की 1000 करोड़ रूपये की बारानी कृषि परियोजना

उत्तराखण्ड राज्य के लिए विश्व बैंक ने स्वीकृत की 1000 करोड़ रूपये की बारानी कृषि परियोजना

देहरादून: उत्तराखंड के पर्वतीय क्षेत्रों में बारानी खेती को नई ऊंचाइयों पर ले जाने के उद्देश्य से बनाई गई 1000 करोड़ रूपये की “उत्तराखण्ड जलवायु अनुकूल बारानी कृषि परियोजना‘‘ को विश्व बैंक द्वारा मंजूरी दे दी गई है। यह परियोजना जलागम विभाग द्वारा कियान्वित की जायेगी।

वैश्विक स्तर पर हो रहे जलवायु परिवर्तन, अधिक ग्रीन हाऊस गैस उत्सर्जन से वैश्विक स्तर पर अनिश्चित मौसम चक्र/घटनाओं से सभी देश प्रभावित हैं। हमारा राष्ट्र भी सीओपी 26 एग्ररीमेंट का प्रतिभागी है, इसी को दृष्टिगत रखते हुये उत्तराखण्ड राज्य सरकार द्वारा ग्रीन हाऊस कार्वन उत्सर्जन कम किये जाने एवं जलवायु परिवर्तन से हो रहे कृषि क्षेत्र में प्रभावों को कम करने हेतु भारत सरकार को विश्व बैंक से वित्त पोषण हेतु “उत्तराखण्ड जलवायु अनुकूल बारानी कृषि परियोजना” का प्रस्ताव प्रेषित किया गया था।

यह परियोजना पर्वतीय क्षेत्रों में स्प्रिंगशैड प्रबन्धन, कृषि उत्पादकता को बढ़ाने, पलायन रोकथाम, नवीनतम आधुनिक तकनीक अपनाकर क्लस्टर आधारित खेती को प्रोत्साहित करने में कारगर सिद्ध होगी, ताकि कृषि क्षेत्र में जलवायु परिवर्तन के अनुकूल गतिविधियों को प्रोत्साहित किया जा सके और प्रदेश के युवाओं एवं कृषकों हेतु कृषि एक लाभकारी व्यवसाय के रूप में विकसित हो सके।

राज्य के बारानी कृषि क्षेत्र के व्यापक सुधार, प्रति इकाई उत्पादकता वृद्धि तथा कृषि व्यवसाय वृद्धि को दृष्टिगत रखते हुये प्रस्तावित परियोजना में प्रमुख रूप से निम्नानुसार गतिविधियां की जाएंगी।

  • वर्षा आधारित कृषि उत्पादन प्रणालियों में संभावनाओं के विस्तार हेतु आधारभूत प्रणाली के रूप में स्प्रिंग- शेड प्रबंधन अवधारणा से कार्य।
  • प्रभावी वर्षा जल भंडारण तथा कुशल जल उपयोग गतिविधियों के माध्यम से सूक्ष्म में स्थित स्प्रिंग- शेड प्रवाह क्षेत्रों में जल उत्पादकता बढ़ाना।
  • जलवायु अनुकूल कृषि पद्धतियाँ अपनाकर, बारानी कृषि भूमि की मृदा में जैविक कार्बन की मात्रा में सुधार करते हुए ग्रीन हाउस गैसों के उत्सर्जन में कमी लाना।
  • विविध कृषि प्रणालियों के अंतर्गत हाइड्रोपोनिक्स आदि जलवायु दक्ष तकनीकों के अंगीकरण तथा एग्रोलॉजिस्टिक्स को प्रोत्साहन।
  • परंपरागत स्थानीय फसलों के प्रमाणित बीज उत्पादन तथा एकीकृत फसल प्रबंधन रणनीतियों द्वारा बारानी क्षेत्रों में जलवायु अनुकूल को बढ़ावा देना।
  • जलवायु अनुकूल कृषि सलाहकार सेवाओं तथा क्लस्टर स्तर पर विश्वसनीय फसल आधारित
  • मौसम सलाहकार सेवाओं का प्रसार तथा तद्नुसार किसानों का क्षमता विकास।
  • छोटी जोत वाले किसानों के लिए विभिन्न आयपरक स्रोत विकसित करने हेतु कृषि, बागवानी, पशु पालन (विशेष रूप से छोटे पशु) आदि सहायक कृषि गतिविधियों का एकीकरण।
  • पारंपरिक स्थानीय फसलों के जैविक प्रमाणीकरण द्वारा मूल्य वृद्धि सुनिश्चित करना।
  • किसानों को समन्वित रूप से कृषि आधारित सेवाएं प्रदान करने तथा लाभकारी बाजार संपर्क सुनिश्चित करने के लिए स्थानीय स्तर पर कृषि व्यवसाय केंद्रों की स्थापना।

प्रस्तावित परियोजना गतिविधियों द्वारा न सिर्फ क्लस्टर स्तर पर विश्वसनीय फसल आधारित मौसम सलाहकार सेवाओं के लिए प्रौद्योगिकी का उपयोग तथा फसलों, सब्जियों तथा फलों के लिए जलवायु अनुकूल पैकेज आफ प्रैक्टिसेज का विकास संभव हो सकेगा, अपितु परियोजना क्षेत्र में उच्च मूल्य संरक्षित कृषि क्लस्टरों की स्थापना के साथ-साथ स्थानीय कृषकों की वित्तीय तथा तकनीकी सहायता में पूर्णतः सक्षम एवं क्रियाशील 5 कृषि व्यवसाय केंद्रों की स्थापना भी हो सकेगी। इसके अतिरिक्त जल उत्सर्जन में 4 प्रतिशत की वृद्धि, मृदा क्षरण में 15 प्रतिशत की कमी तथा बारानी फसलों में 20 प्रतिशत एवं सिंचित फसलों की उत्पादकता में 50 प्रतिशत की वृद्धि जैसे लक्ष्य प्राप्त किए जा सकेंगे।

RELATED ARTICLES

अगले 3 माह में उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग की 7 भर्ती परीक्षाओं के परिणाम

देहरादून: उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग सात भर्ती परीक्षाओं के परिणाम अगले तीन माह के भीतर जारी कर देगा। सबसे पहले आयोग सहायक अध्यापक...

फर्जी मार्कशीट व शैक्षणिक दस्तावेज बनाकर कमाई करने वाली गैंग का किया भंडाफोड़, 1 अभियुक्त गिरफ्तार

देहरादून: दिनाक 31/01/23 को थाना कोतवाली नगर व स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप देहरादून को सयुक्त रूप से सूचना मिली कि एम0डी0डी0ए0 कंपलेक्स में स्थित एक...

स्कूलों में बच्चों के भारी-भरकम बस्तों का बोझ कम करने के लिये शिक्षा बोर्ड के साथ विचार-विमार्श

देहरादून: स्कूलों में बच्चों के भारी-भरकम बस्तों का बोझ कम करने के लिये राज्य में संचालित सभी शिक्षा बोर्ड के साथ विचार-विमार्श कर कोई...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय

अगले 3 माह में उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग की 7 भर्ती परीक्षाओं के परिणाम

देहरादून: उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग सात भर्ती परीक्षाओं के परिणाम अगले तीन माह के भीतर जारी कर देगा। सबसे पहले आयोग सहायक अध्यापक...

फर्जी मार्कशीट व शैक्षणिक दस्तावेज बनाकर कमाई करने वाली गैंग का किया भंडाफोड़, 1 अभियुक्त गिरफ्तार

देहरादून: दिनाक 31/01/23 को थाना कोतवाली नगर व स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप देहरादून को सयुक्त रूप से सूचना मिली कि एम0डी0डी0ए0 कंपलेक्स में स्थित एक...

स्कूलों में बच्चों के भारी-भरकम बस्तों का बोझ कम करने के लिये शिक्षा बोर्ड के साथ विचार-विमार्श

देहरादून: स्कूलों में बच्चों के भारी-भरकम बस्तों का बोझ कम करने के लिये राज्य में संचालित सभी शिक्षा बोर्ड के साथ विचार-विमार्श कर कोई...

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने केंद्रीय बजट 2023-24 हेतु केंद्रीय वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण को बधाई दी

देहरादून: मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने केंद्रीय बजट 2023-24 हेतु केंद्रीय वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण को बधाई देते हुए कहा है कि यह...

उत्तराखंड में भी होगा भारत सीरीज नंबरों ( BH Series Number) का रजिस्ट्रेशन शुरू, अन्य राज्यों में जाने पर नहीं बदलनी पड़ेगी नंबर प्लेट,...

देहारादून: उत्तराखंड से अन्य राज्यों में स्थानांतरित होकर जाने वाले वाहन स्वामियों को नंबर बदलने और टैक्स जमा करने के फेर में नहीं पड़ना...

काम की खबर, जानिए आम बजट 2023 में मोदी सरकार ने क्या किया सस्ता और क्या महंगा..?

नई दिल्‍ली: आम बजट में आम लोगों की निगाहें आमतौर पर इस बात पर रहती हैं कि कौन-सी चीज सख्‍ती हुई और कौन-सी महंगी।...

मोदी सरकार ने दी मीडिल क्लास को सबसे बड़ी राहत, अब 7 लाख तक सलाना कमाने वाले को नहीं देना होगा कोई टैक्स, जानें...

नई दिल्ली: मोदी सरकार ने बजट में मीडिल क्लास को बड़ी राहत दी है। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट में मध्यमवर्गीय नागरिकों...

’स्पेशल 26’ की तरह उत्तराखंड में सरकारी नौकरी के नाम पर बेरोजगारों युवाओं के साथ बड़ा खेल

हरिद्वार: ’स्पेशल 26’ की तरह उत्तराखंड में सरकारी नौकरी के नाम पर बेरोजगारों युवाओं के साथ बड़ा खेल हो गया। पांच से दस लाख...

डीजल आटो विक्रम अब देहरादून-हरिद्वार से कहेंगे अलविदा, 31 मार्च 2023 है लास्ट डेट, अब चलेंगे बीएस-6 श्रेणी के यात्री वाहन

देहरादून: उत्तराखंड के दो शहरों देहरादून-हरिद्वार में डीजल आटो विक्रम अब बीते दिनों की बात हो जायेंगे। संभागीय परिवहन प्राधिकरण की बैठक के बाद...

उत्तराखंड की मानसखंड झांकी को देश में पहला स्थान, सूचना महानिदेशक बंशीधर तिवारी ने किया पुरस्कार ग्रहण

देहरादून: गणतंत्र दिवस पर नई दिल्ली में कर्तव्य पथ पर हुई परेड में उत्तराखंड की झांकी मानसखंड को प्रथम स्थान के लिए मंगलवार को...